टैक्सी से टूरिज्म ओर शहर की पहचान, शहर का प्रथम परिचय आपसे, विनम्र रहे- SP- Shivpuri News

शिवपुरी।
किसी भी पर्यटक, यात्री का शहर आने पर पहला परिचय ट्रेन या बस से उतरने के बाद ऑटो चालकों से होता है।ऐसे में यदि वह अपना व्यवहार विनम्र नहीं रखेंगे, तो शहर से पर्यटक का पहला परिचय नकारात्मक जाएगा और वह हमारे शहर के प्रति अपना नजरिया ठीक नहीं रखेगा। इसलिए आवश्यक है कि ऑटो चालक अपना व्यवहार विनम्र और मीठा रखें ताकि वह शहर से अच्छा संदेश लेकर जाए।

यह नसीहत एसपी राजेश सिंह चंदेल ने सोमवार को शहर के पोलो ग्राउंड में एकत्रित ऑटो चालकों को दी। एसपी ने कहा कि शिवपुरी शहर पर्यटन के रूप में विकसित होने जा रहा है। यहां देश-विदेश के पर्यटक भी आएंगे। ऐसे में यदि हम अपने व्यवहार, वाणी और आचरण में सुधार नहीं करेंगे तो निश्चित रूप से शहर के प्रति नजरिया उनका सही नहीं बनेगा।

अक्सर हमारे पास शिकायतें आती है कि ऑटो चालक सही ढंग से बात नहीं करते।गाली देकर और तू तड़ाक कर बात करके वह यात्रियों से अनर्गल पैसा आने- जाने का वसूलते हैं। यह नजरिया ठीक नहीं है। इस शहर के नागरिक आप भी हैं, और उसे हर एक को बेहतर बनाने की जिम्मेदारी आपकी भी है। यदि हम बेहतर ढंग से शहर को पर्यटन के रूप में विकसित होना देखना चाहते हैं, तो हमें अपनी आदतों में भी सुधार करना होगा।

इन तीन बिंदुओं से जानिए अब ऑटो चालकों को क्या नया करना होगा

1. हर ऑटो चालक को अब अपने ऑटो में खुद का मोबाइल नंबर, वाहन का नंबर, पुलिस कंट्रोल रूम का नंबर और ऑटो का नंबर अंकित कर रखना होगा। इससे यह लाभ होगा कि कोई भी यात्री जब ऑटो में बैठेगा तो उसे ऑटो चालक के नंबर के साथ-साथ वाहन का नंबर और ऑटो नंबर भी सीट के सामने दिखेगा, ताकि कोई परेशानी आने पर वह सीधा शिकायत कर सके। इससे यातायात और पुलिस विभाग को भी यह फायदा होगा कि विषम परिस्थितियों में वह किसी घटना के घट जाने पर सीधे ऑटो चालक को ट्रेस कर सकेंगे।

2. ऑटो चालकों को अब निर्धारित वर्दी में रहना होगा। वह इसलिए क्योंकि वर्दी ही उसकी पहचान है। यात्री भी वर्दी पर नेम प्लेट देखकर ऑटो चालक का नाम और ऑटो में लगे नंबर से चालक के बारे में जान सकेगा। 3. हर ऑटो चालक को येलो कार्ड जारी हो सकता है बशर्ते वह अपने डाक्यूमेंट्स पूरे रखें। इस संबंध में यातायात प्रभारी रणवीर सिंह यादव ने बताया कि जिन ऑटो चालकों के पास लाइसेंस, वर्दी, नेम प्लेट, आरटीओ दस्तावेज और पूरे आवश्यक कागजात होंगे, उन्हें शिविर लगाकर येलो कार्ड दिए जाएंगे। इनके माध्यम से वह पुलिस की अनावश्यक पूछताछ से भी बचेंगे और पर्यटकों के लिए लगने वाले ऑटो के लिए भी वह चिन्हित हो सकेंगे।

अब अस्पताल में प्रवेश करने पर नहीं कटानी होगी पर्ची: जिला चिकित्सालय के अंदर मरीज के साथ प्रवेश करने पर ऑटो चालकों से 10 रुपए की रसीद काटी जाती थी, जिसकी शिकायत ऑटो चालकों ने एसपी राजेश सिंह चंदेल से की तो उन्होंने कहा कि यह प्रक्रिया बंद होनी चाहिए।

ऑटो चालक यदि मरीज लेकर जिला अस्पताल जा रहा है तो फिर उससे पार्किंग टैक्स नहीं लिया जाना चाहिए। इस पर यातायात प्रभारी ने सोमवार से ही यही व्यवस्था लागू करने की बात कही। एसपी के आश्वासन पर ऑटो चालक खुश नजर आए।