बारिश से किसान परेशान फसलों को बचाने नाव से रेस्क्यू-1 फोटो 2 कहानी- Pichhore News

पिछोर। खबर शिवपुरी जिले के पिछोर विधानसभा क्षेत्र से आ रही है कि जाते जाते बारिश किसानों से सब कुछ छीन कर ले गई। जिले में भारी बारिश से खेत तालाब बन चुके हैं पर अन्नदाता ने इस डूबती फसलों से उम्मीद नहीं छोडी और तालाब बने खेतों में नाव चलाकर रेस्क्यू की करने की तस्वीर सामने आ रही हैं। यह फोटो 2 कहानी सामने लाता हैं एक हम डूब चुके हैं दूसरी हम हार नहीं मानेंगें।

पिछोर तहसील के भवनपुरा गांव में भारी बारिश ने इतनी तबाही मचाई कि किसानों के खेत तालाबों में तब्दील हो गए। खेतों में पानी इतनी मात्रा में भरा कि खेतों में नाव तक तैरने लगी। कई किसानों ने नाव के सहारे अपनी फसल को बचाने का प्रयास किया।

भवनपुरा गांव के रहने वाले किसान राजकुमार केवट ने बताया कि उनके द्वारा कई बीघा में मूंगफली की फसल की गई थी। परंतु अतिवृष्टि के कारण उनकी पूरी फसल बर्बाद हो गई। मूंगफली की फसल में मूंगफली का दाना पड़ चुका था। जिसे बचाने के लिए उनके द्वारा नाव के सहारे फसल बचाने का प्रयास किया। उनका यह प्रयास भी असफल रहा। राजकुमार केवट ने प्रशासन और सरकार से जल्द से जल्द मुआवजा दिलाए जाने की मांग की है।

धरती का सीना चीर कर अन्न पैदा करने वाला किसान

किसानो के फसलों को बचाने का प्रयास की यह वीडियो सोशल पर वायरल हो रही हैं। वायरल वीडियो पर लोग कमेंट कर रहे है कि किसान को सब कुछ बर्बाद हो गया। सरकार मदद करे। लेकिन इस वीडियो से दूसरा पहलू भी निकाल सकते हैं हम किसान के दर्द को समझते हैं लेकिन यह वीडियो बडी हिम्मत और उम्मीद का प्रदर्शन करती हैं।

यह वीडियो दुख के साथ यह भी परिभाषित करती हैं कि किसान को ऐसे ही अन्नदाता या भगवान नहीं कहते हैं। इतनी बुरी स्थिति में कोई भी टूट जाता लेकिन यह अन्नदाता है हिम्मत नहीं टूटी,मन में सोचा कर लो लेलो भगवान हमारी परीक्षा हैं हम किसान हैं मिट्टी का सीना चीर कर फसल उगा सकते है तो पानी में डूब चुकी फसल को बचाने का भी प्रयास करेंगें।