दुधमुंहे बच्चे को कलेक्टर का पहुंची आशा कार्यकर्ता, शराबी पति से आधी वेतन दिलाई जाए- Shivpuri News

शिवपुरी। शिवपुरी के कलेक्टर सभागार में आयोजित जनसुनवाई में एक आशा कार्यकर्ता अपनी दुधमुंही बच्ची को लेकर आशा कार्यकर्ता पहुंची। कार्यकर्ता ने बताया कि उसे 9 माह से वेतन नहीं मिला है, जिसके चलते उसे अपनी आजीविका चलाने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वह हर रोज अपनी दुधमुंही बच्ची को ले जाकर जो भी निर्देश मिलते है, वह पूरा करती है। इसके बावजूद उसे 9 माह बीत जाने के बाद भी वेतन नहीं मिला है।

करैरा तहसील के सिरसौद क्षेत्र के ग्राम बघरा साजौर की रहने वाली मनीषा पाल पत्नी प्रकाश पाल ने बताया कि वह बघरा साजोर में आशा कार्यकर्ता के पद पर दिसंबर माह में पदस्थ हुई थी। तभी से वह अपना कार्य कर रही है, उसे उक्त पद पर कार्य करते हुए 9 माह बीत चुके हैं, लेकिन उसे 9 माह का वेतन प्राप्त नहीं हुआ है। वह अपनी दुधमुंही बच्ची को लेकर अपनी ईमानदारी से अपना कार्य करती हुई आ रही है। इसके बावजूद आज दिनाक तक उसे वेतन नहीं मिला है।

इसकी शिकायत कई बार संबंधित अधिकारियों से की, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। इसके अतिरिक्त वह वीसीएम से भी वेतन न मिलने की शिकायत दर्ज करा चुकी है, लेकिन उनका कहना है कि जिसने तुम्हारी नियुक्ति की है, वही उसे वेतन देंगे। इसमें उसे अपने परिवार का भरण पोषण करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

इधर शराबी पति से परेशान है महिला ने लगाई कलेक्टर से गुहार शिवपुरी के ग्राम सिरसौद तहसील करैरा की रहने वाली महिला सुमन जाटव पत्नी मनीराम जाटव ने भी कलेक्टर से शिकायत दर्ज कराई है। महिला का कहना है कि उसका पति मनीराम जाटव सिरसौद छात्रावास में भ्रत्य के पद पर कार्यरत है। लेकिन वह शराब पीने का आदि था, विभागीय अनुमति से उसके खाते में पति की आधी सैलरी आती थी।

जिसमें वह अपना खर्चा चलाती थी लेकिन उसका शराबी पति काफी समय से छात्रावास में उपस्थित नहीं हुआ, जिसके कारण पत्नी के खाते में आधी सैलरी नहीं आ सकी है। अब वह अपना भरण-पोषण नहीं कर पा रही है।

महिला ने बताया कि आजीविका के लिए उसकी वेतन उसके खाते में दिलाई जाए, वहीं परिवार के अन्य सदस्य की नौकरी उनकी जगह दी जाए। जिससे अपने परिवार का भरण पोषण कर सकें।