प्रत्येक सेकंड पर अपराध कर रही हैं सोम कंपनी, प्रतिबंधित क्षेत्र में खोली दारू की दुकान: प्रशासन मौन - Shivpuri News

शिवपुरी। यह बात तय है कि सरकार को अगर राजस्व की आय हो तो वह भी अवैध काम में सहयोग करने लगती हैं,इसका सीधा प्रमाण शिवपुरी में देखने को मिल रहा हैं। आबकारी विभाग सरकार का सबसे बड़ा राजस्व का जरिया हैं। शराब की ठेकेदार को कई प्रकार की सुविधाए शासन पर अपने स्तर पर उपलब्ध करा देता हैं चाहे वह अनैतिक और असांविधिक हो। ऐसा ही एक अपराध शिवपुरी जिले में शराब की दुकानों का ठेका लेने वाली कंपनी सोम कंपनी कर रही है।

जैसा कि विदित हैं कि शहर के देहात थाना सीमा में आने वाले गुना बाईपास से लेकर चिंकारा तक ये सारी ज़मीन वन विभाग के अंतर्गत आती है। वन भूमि के अंदर किसी भी प्रकार की कमर्शियल एक्टिविटी करना सख्त मना है,यह एक वन अपराध की श्रेणी में आता हैं। इसके अंदर प्रवेश तक को अपराध माना जाता हैं अगर वनभूमि मे कोई अवैधानिक वस्तु पकडी जाती हैं तो उसे जब्त करने का नियम भी है।

वन भूमि में जब प्रवेश तक अवैध हैं इस कानून के बाद भी सोम कंपनी ने अपना शराब का शोरूम खोल डाला,और बड़े ही शान से इसे बेखौफ संचालित भी किया जा रहा हैं और इस दारू की दुकान पर सैकड़ों लोग दारू खरीदने जा रहे सीधे शब्दों में कहे तो वन भूमि पर अवैध प्रवेश कर रहे हैं प्रत्येक सेकंड यह अपराध हो रहा है।

जब इस संबंध में शिवपुरी रेंजर गोपाल जाटव से बात की गई तो उनके द्वारा किसी भी प्रकार की कोई भी परमिशन नहीं लेने की बात की गई है तथा उनके द्वारा शराब का ठेका संचालित करने वाले लोगों को नोटिस दिया गया है। नोटिस के बाद अगर यह दुकान नहीं हटती तो वन विभाग इस दुकान पर वैधानिक कार्यवाही करेगा।

सवाल यहा यह खड़ा होता है कि 1 अप्रैल से यहां शराब का शोरूम सोम कंपनी वन भूमि पर संचालित कर रही हैं,इस शोरूम को संचालित करते हुए लगभग 30 दिन से अधिक हो गए लेकिन अभी तक वन विभाग के जिम्मेदारों की इसपर नजर नही पडी हैं सिर्फ खाना पूर्ति के लिए नोटिस दिए गए,अब कब वनविभाग इस दुकान को हटाऐगा और वन भूमि को अतिक्रमण से मुक्त करेगा,अगर नोटिस की समय अवधि में सोम कंपनी इस दुकान को नही हटाती है तो वनविभाग इस दुकान को सील कर पूरी दारू जब्त करेगा,सवाल बडा हैं और जबाब पाने के लिए खड़ा है।