5 बच्चों के साथ स्कूल संचालक ने की थी धोखाधडी: अब जून में देंगे 12 वीं की परीक्षा- Shivpuri News

शिवपुरी। ग्रामीण अंचल में रहने वाले माता-पिता ने बच्चों को बेहतर शिक्षा दिलाने के उद्देश्य से शहर भेजा। मेहनत की कमाई से पूरी फीस भी जमा कराई। लेकिन स्कूल प्रबंधन की लापरवाही के चलते 5 बच्चे 12वीं की परीक्षा देने से वंचित रह गए। इन बच्चों का पूरा एक साल बर्बाद होने के कगार पर आ गया था, लेकिन अब यह बच्चे बाल कल्याण समिति के प्रयासों की मदद से अगले महीने 12वीं की परीक्षा दे सकेंगे।

16 फरवरी को 12वीं के छात्र विवेक पांडे, मोनू रावत, शिवानी भार्गव, दीप्ति सेन एवं मनीषा कुशवाह ने जिला शिक्षा अधिकारी और कोतवाली पुलिस को एक निजी स्कूल की धोखाधड़ी के संबंध में आवेदन दिया था। इसमें बताया था कि परीक्षा के आनलाइन फार्म भरने की तिथि निकल जाने की वजह से वे परीक्षा से वंचित रह रहे हैं। स्कूल संचालक की गलती के कारण यह हुआ है। इसके बाद भी बच्चों की कोई मदद नहीं हुई।

फिर बच्चों ने चाइल्ड लाइन नंबर 1098 पर शिकायत की। यहां से प्रकरण बाल कल्याण समिति के पास पहुंचा। बाल कल्याण समिति ने सरकार की आ लौट चलें योजना के तहत बच्चों के परीक्षा आवेदन भरवाने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी को आदेशित किया। साथ ही अपर संचालक लोक शिक्षण संचालनालय भोपाल को भी पत्र भेजकर बच्चों के मामले में सहानुभूति पूर्ण कार्यवाही का अनुरोध किया। अब यह बच्चे जून में होने वाली परीक्षा में शामिल हो सकेंगे। इसमें बाल कल्याण समिति अध्यक्ष डा. सुषमा पांडे सहित समिति की सदस्यो का विशेष प्रयास रहा।