खेती के साथ पशुपालन: मुर्रा भैंसो से 150 लीटर दूध प्राप्त करते हैं, पढ़िए कैसे - Shivpuri News

NEWS ROOM
शिवपुरी।
शिवपुरी के बड़ागांव में खेती के साथ पशुपालन करके अवतार सिंह गुर्जर एक सफल युवा पशुपालक बने हैं। अवतार सिंह के यहां लगभग 15 मुर्रा नस्ल की भैंस हैं।इसके अलावा गाय भी हैं। इनसे वह लगभग डेढ़ सौ लीटर दूध प्राप्त करते हैं। उसे वह शिवपुरी शहर और डेयरियों पर पहुंचाते हैं।

अवतार सिंह ने बताया कि उन्होंने खेती के साथ पशुपालन भी शुरू किया। लगभग 2 वर्ष पहले 2019 से उनके मन में यह विचार आया कि पशुपालन को भी बढ़ाना चाहिए तब उन्होंने पशुपालन विभाग द्वारा संचालित आचार्य विद्यासागर योजना के तहत 10 लाख का लोन लिया और इसमें डेढ़ लाख रुपए की सब्सिडी उन्हें मिली।

अभी वह दुग्ध उत्पादन से प्रतिमाह लोन की किस्त चुकाने के बाद भी अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे हैं। बुधवार को जब जिले के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने फार्म पर भ्रमण किया। तब अवतार सिंह ने अपने अनुभव साझा किए और अपनी सफल होने की कहानी उन्हें बताई।

अवतार सिंह का कहना है कि अब उन्हें पशुपालन में लाभ होने लगा है। इसे वह और आगे बढ़ाना चाहते हैं। वह लगभग 50 भैंसे रखना चाहते हैं जिससे उनकी आय और बढ़ेगी। उन्होंने बताया कि आज वह एक सफल युवा कृषक है जो खेती के साथ पशुपालन कर रहे हैं। वह अपने परिवार का भरण पोषण और बच्चों की अच्छी पढ़ाई का प्रबंध कर पा रहे हैं।

यदि हम किसी भी काम को पूरे लगन के साथ करते हैं तो सफलता जरूर मिलती है। कलेक्टर और पुलिस ने भी अवतार सिंह को प्रोत्साहित किया। उन्हें नेपियर घास लगाने की सलाह दी। यह घास जल्दी विकसित होती है। इससे भैंसों के लिए पर्याप्त चारा भी उपलब्ध रहेगा।
G-W2F7VGPV5M