इस लुटेरे पुलिसकर्मी से सावधान: शिवपुरी शहर में खुलेआम लोगों से ऐसे लूट रहा है यह गैंग- Shivpuri News

शिवपुरी।
शहर को सचेत करने बाली यह खबर शिवपुरी जिले की है। जहां एक वर्खास्त पुलिसकर्मी लोगों को अपने जाल में फंसाकर जमकर लूट रहा है। यह गैंग शहर के ऐसे दुकानदारों को निशाना बनाते है या तो वह सीधे साधे हो या फिर कोई बच्चा दुकान का संचालन कर रहा हो। यह दुकानदारों को इस तरह से बातों में फंसाते है कि लोग इनकी बातों में आसानी से आ जाते है।

जानकारी के अनुसार गुना से बर्खास्त पुलिस कर्मी देवेन्द्र धाकड निवासी ठर्रा मध्यप्रदेश पुलिस में पदस्थ था। बीते कुछ समय पहले अपनी फर्जी हरकतों के चलते विभाग द्धारा वर्खास्त पुलिसकर्मी देवेन्द्र धाकड अब शिवपुरी शहर में हडकंप मचाए हुए है। हालात यह है कि यइ पुलिसकर्मी लगातार शहर में कई लोगों को निशाना बना रहे है।

एक बारदात बैराड थाना क्षेत्र के ग्राम गिरवानी में घटित की है। जहां उक्त बर्खास्त पुलिसकर्मी देवेन्द्र धाकड ने कुलदीप की दुकान से 6 हजार रूपए का सामान लिया। उसके बाद उसने कहा कि पैसे वह पैटीएम से करेंगा। जिसके चलते उसने कोड स्कैन कर पैटीएम से 6 हजार रूपए का पैमेंट करके सस्सैज फुल का मैसेज दिखाया और कहा कि खाते में पैसे आने में कभी कभी समय लग जाता है। यह सक्सैजफुल का मैसेज है। और पैसे खाते में आ जाएगे। परंतु जब पैसे नहीं आए तो दुकानदार ने इन आरोपीयों का सीसीटीव्ही फुटैज वायरल करते हुए इस मामले की शिकायत बैराड थाने में की।

ऐसी ही एक बारदात इन्होंने फिजीकल थाना क्षेत्र के छत्री पर स्थिति एक दुकानदार विशाल कोठारी को निशाना बनाया। जिसमें उक्त बर्खास्त पुलिसकर्मी देवेन्द्र धाकड दुकान पर आया और दुकानदार विशाल कोठारी को बताया कि उसके घर में कार्यक्रम है। जिसका सामान उसे लेना है। यह पर्चा है इस पर्चे का सामान लगा दे। साथ ही पैसे वह फोन पे के माध्यम से देगा। जिसके लिए अपना फोन पे नंबर दे दे।

जिसके चलते दुकानदार ने अपना मोबाईल नंबर दे दिया। उसके बाद पहले उसने एक रूपए खाते में डलाया। उसके बाद उसने 19500 का सामन लेकर फोन पे का स्क्रीन शॉर्ट दे दिया। परंतु उसके खाते में पैसे नहीं आए। जिसपर उक्त पुलिसकर्मी ने कहा कि यह चैक रख लो पैसे आ जाए तो वह कल चैक बापिस ले जाएगा। परंतु पैसे नहीं आए तो उसे फोन लगाया। तो वह बत्तमीजी करने लगा। और पैसे देने से इंकार कर दिया।

इसके साथ ही इस गैंग ने राठी एण्ड संस को भी निशाना बनाते हुए एक मोबाईल पार कर दिया। इसके साथ ही इस गैंग की ऐसी कई बारदातें है जो यह शहर में घटित करते है। यहां बता दे कि यह बारदात करने के बाद जो लोग इनके पीछे या फिर इनतक पहुंच जाते है उसने पैसे भी बापिस देते है। और जो लोग इनतक नहीं पहुंच पाते उनका पूरा पैसा हजम कर जाते है।

पुलिस से बर्खाश्त होने के चलते उसे क्राईक का भी पूरा आंकलन है। जिसके चलते यह फोन पे पर फर्जी नंबर से पैमेंट करता हैं साथ ही यह फोन के लिए भी फर्जी सिम यूज करता है। अगर पुलिस ने इस पर अभी भी इसपर लगाम नहीं लगाई तो यह शहर में किसी भी बडी बारदात को अंजाम से सकता है।