आपदा में आशियाना उजड़ा, बाबू मांग रहा है 2000 रुपए, अब हरी के सहारे जी रहा है हरिकिशोर- Bairad News

बैराड़। बैराड़ तहसील क्षेत्र में भ्रष्टाचार के मामले आए दिन देखने को मिलते है क्षेत्र में बाढ व जोरदार बारिश से हुए नुकसानों के सर्वे में भी भ्रष्टाचार देखने को मिल रहा है यहां बाबू व तहसील कर्मचारी पीडितों से अपनी जेब गर्म करने में लगे हुए है ऐसी आपदा की स्थिति में भी वह पीडित लोगो को नहीं वख्स रहे है बीते दिनों मे हुई जोरदार बारिश की वजह से क्षेत्र में कई स्थानों पर लोगो को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है किसी का आसियाना उजड गया तो किसी का खाने पीने का सामान, फसल, आदि नष्ट हो गयी। अब ऐसे में सरकार द्वारा सर्वे कर पीडितों के हुए नुकसान की क्षतिपूर्ति की जा रही है जिसमे सर्वे के लिए पैसे मांगे जा रहे हैं।

जानकारी के अनुसार मामला ग्राम पंचायत फुलीपुरा का है जहां पीडित हरिकिशोर प्रजापति निवासी ग्राम फुलीपुरा जिसकी पाटोर बीते दिनों मे हुई बारिश के दौरान ढह गयी और उस पर लगी पटियां भी टूट गई है। जिसके बाद से पीडित परिवार व बच्चो के साथ खुले आसमान के नीचे बड़ी ही दयनीय स्थिति में गुजर-बसर कर रहा है ऐसे में धूप,छांव,बारिश सब उसके लिए एक समान बने हुए है।

पीडित का कहना है कि उसके गॉंव में सर्वे कर लिया गया है और लोगों को सर्वे के द्वारा मिलने वाली राशि मिल चुकी है लेकिन क्षतिपूर्ति को लेकर मिलने वाली राशि अभी भी हरिकिशोर तक नही पहुंची है, वहीं तहसील में स्थित बाबू द्वारा उसके नुकसान के पैसे देने के बदले मे 2000 रूपए की मांग की जा रही है। पटवारी द्वारा उसकी फाइल कम्पलीट कर दी गई है। हरिकिशोर ने बताया कि अब बाबू का कहना है कि तहसीलदार मैडम साइन नही कर रहीं है 2000 रूपए लगेगें, अब सर पर छत न होन से खुले आसमान में रहकर बड़ी कठनाईयों के साथ हरिकिशोर अब केवल हरी के सहारे अपना जीवन जीने को मजबूर है।