समस्याओं को लेकर सड़कों पर आई सहरिया क्रांति, कलेक्ट्रेट की चौखट पर बोले सुनो हमारी साहब - Shivpuri News

शिवपुरी। आजादी के 70 साल बाद भी सहरिया समाज अभी भी विकास की मुख्य धारा से जुड़ नहीं पाया और उसे ग्रामीण इलाकों में तरह तरह की परेशानियां झेलनी पड़ रही हैं, पिछले दिनों आई बाढ़ में सहरिया समाज के लोगों के घरों में पानी भर गया जिससे उनका अनाज खराब हो गया और वे अनाज के दाने दाने को मोहताज हैं।

बाढ़ पीड़ितों का हवाई और कागजी सर्वे भरपूर चल रहा है मगर आहतों को राहत अभी तक नहीं पहुंची, गांवों में कच्ची शराब बिक रही है जिससे आदिवासी युवा गम्भीर बीमारी से ग्रसित होकर मौत का शिकार हो रहे है, गांवों में फायनेंस कम्पनियों द्वारा आदिवासियों को ठगा जा रहा हैं।

दबंगों द्वारा नीमच में कन्हैया आदिवासी के साथ हुई बर्बरता जैसी घटनाए शिवपुरी अंचल में भी पहले सामने आ चुकी हैं। इन्हीं सब समस्याओं को लेकर आज सहरिया क्रांति के सैंकड़ो सदस्य सहरिया क्रांति संयोजक संजय बेचैन के नेतृत्व में कलेक्टोरेट कार्यालय पहुंचे।

जहां जब कलेक्टर नहीं मिले तो सहरिया क्रांति ने कलेक्टोरेट के मैदान में ही डेरा जमा लिया और नारेबाजी करते हुए मांगों को पूरा करने की मांग की। यह प्रदर्शन पूरे तीन घण्टे चला इसके बाद मौके पर कलेक्टर एसपी पहुंचे जिन्हें आदिवासियों की समस्त मांगों को गम्भीरता से सूना और अधिकांश मांगो को पूरा करने का आश्वासन दिया।

इन मांगों को लेकर दिया ज्ञापन

1.शिवपुरी जिले में पिछले दिनों आई बाढ़ के बाद सहरिया बस्ती मंे सर्वे नहीं हुए और जिनके सर्वे हुए उन्हें मुआवजा देने के नाम रिश्वत मांगी जा रही हैं

2.नीमच जिले में आदिवासी युवा के साथ दबंगों द्वारा की गई मारपीट एवं गाड़ी से घसीटकर उसे मौत के घाट उतारने वाले दबंगों को फांसी की सजा दी जाए एवं शिवपुरी अंचल में भी आदिवासियों को ऐसी ही यातनायंे झेलनी पड़ रही हैं जिन पर लगाम लगाई जाए।

3.शिवपुरी जिले में आदिवासी बस्तियों में अवैध कच्ची शराब खुलेआम बिक रही है जिससे आदिवासी बीमारी हो रहे हैं और उनकी मौत हो जाती हैं

4.गांवों में फायनेंस कम्पनी के लोग भोले भाले आदिवासियों को लालच देकर फंसा लेते हैं और उन्हें वाहन खरीदवा देते हैं फिर आदिवासियों के वाहनों को किश्त जमा न होने की बात कहकर उनसे छीन ले जाते हैं, ऐसे मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं।

5.शिवपुरी के कई आदिवासी अपनी ही जमीन पर बंधुआ मजदूरी कर रहे हैं और उन्हें यातनायंे झेलनी पड़ रही हैं, उन्हें बंधुआ मजदूरी से मुक्ति दिलाई जाए।

अधिकारी बोले: कलेक्टोरेट में बनेगा आदिवासी शिकायत प्रकोष्ठ

कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने कहा कि आदिवासियों की शिकायत के लिए विशेष रूप् से एक आदिवासी शिकायत प्रकोष्ठ बनेगा जिसमें आदिवासियों ही समस्या को सुना जाएगा और उन समस्याओं का जल्द से जल्द निराकरण किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि जिन गांवों में सर्वे नहीं हुआ है वहां दोबारा सर्वे कराकर 50-50 किलो अनाज बांटा जाएगा।

एसपी बोले: अवैध शराब के खिलाफ चलेगा अभियान

एसपी राजेश सिंह चंदेल ने कहा कि आदिवासी बस्ती में अवैध शराब की खपत करने वाले शराब माफियाओं के खिलाफ जिले भर में अभियान चलाया जाएगा जिसके लिए आदिवासी समाज के लोगों का भी सहयोग लिया जाएगा।