मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन और ICU वार्ड में अपने जिंदा पिता को तलाशती रही बेटी: पिता मिले शव डेड हाऊस - Shivpuri News

शिवपुरी। शिवुपरी मेडिकल काॅलेज के अस्पताल से लगातार गंभीर लापरवाही की खबरे आ रही हैं,यहां कोविड 19 के गंभीर मरीजो का ईलाज किया जा रहा हैं लेकिन प्रबधंन ईलाज के लेकर गंभीर नही हैं,पिछले दिनो एक मरीज को 25 तारिख को भर्ती करया गया था और उसका डेथ सर्टिफिकेट कालेज अस्पताल ने 24 अप्रैल का जारी कर दिया। ऐसा ही आज कुछ हुआ हैं मेडिकल काॅलेज के अस्पताल में।

मेडीकल कॉलेज में भर्ती एक 61 वर्षीय वृद्ध परसादी लाल पुत्र मुलाराम शाक्य की बीती रात्रि मौत हो गई। जिस पर मृतिका की पुत्री प्रगाति शाक्य ने कॉलेज प्रबंधन पर लापरवाही का गंभीर आरोप लगाया है। युवती का कहना है कि रात 8रू30 बजे वह अपने पिता से मिली थी। लेकिन आज सुबह मेडीकल प्रबंधन ने उसकी पिता की मौत की जानकारी दी और उसे एक डेथ सर्टिफिकेट थमा दिया।

जिसमें मौत का समय रात्रि 8 बजकर 5 मिनिट बताया गया है। इस बात पर युवती ने मेडीकल कॉलेज में हंगामा कर दिया। इसके बाद मेडीकल कॉलेज प्रबंधन बचाव की मुद्रा में आ गया। मेडीकल कॉलेज के डीन अक्षय निगम इस पूरे मामले को लेकर अनभिज्ञता जाहिर कर रहे हैं और मामले की जानकारी लेने की बात कह रहे हैं।

मेडीकल कॉलेज की द्वितीय वर्ष की छात्रा प्रगाति शाक्य ने जानकारी देते हुए बताया कि उसके पिता को दिन पहले सेचुरेशन कम होने के कारण मेडीकल कॉलेज लाया गया था। जहां उनकी कोरोना की जांच नहीं हुई थी। लेकिन सेचुरेशन कम होने के कारण उन्हें आईसीयू में भर्ती कर लिया गया। कल शाम साढ़े 8 बजे वह अपने पिता से मिलने पहुंची और उनका हालचाल जाना।

इस दौरान उसने पिता के स्वस्थ होने का वीडियो यह सोचकर बनाया था कि वह परिवार के सदस्यों को बताएगी कि उन्हें कोई परेशानी नहीं है। रात में घर पहुंचकर उनको फोन लगाया तो उनका फोन नही उठा,सोचा की सा गए होंग।

बेटी ने बताया कि जब वह सुबह मेडीकल कॉलेज पहुंची तो उसके पिता बेड पर नहीं थे,मैन वहां उपस्थित नर्सो से पूछा तो उन्होने भी कोई जानकारी नही दी। मैने दोनो आईसोलेशन वार्ड और चारो आईसीयू में अपने पिता को तलाश किया लेकिन वह नही मिले। फिर मैं वही पहुंची जहां मेरे पिता भर्ती थे,पास के पलंग वालो ने बताया कि रात में उन्है कोई ले गया था।

लेकिन कुछ देर बाद ही बेटी का पिता की मौत की खबर मिली कि रात में उसके पिता की अचानक तबीयत खराब हो गई और उनकी मौत हो गई। बेटी ने आरोप लगाया कि अगर रात में अचानक तबीयत खराब हो गई थी और उनकी मौत हो गई तो परिजनो को फोन लगाकर इसकी सूचना क्यो नही दी।

युवती का यह भी आरोप था कि मेडीकल प्रबंधन ने उनकी मृत्यु का समय ही बदल दिया। पिता साढ़े 8 बजे तक ठीक थे और अच्छे से बातचीत कर रहे थे जिसका वीडियो उसके पास है। लेकिन रात में ऐसा क्या हो गया कि उसके पिता की मौत हो गई।

मेडीकल प्रबंधन ने पिता की मौत की सूचना तक उन्हेें नहीं दी और आज सुबह उनका डेथ सर्टिफिकेट उन्हें दे दिया। डेथ सर्टिफिकेट में उनकी पिता की मौत का समय रात्रि 8 बजकर 5 मिनिट बताया गया है। जबकि 8रू30 बजे उसके पिता जीवित थे और उससे बातचीत कर रहे थे।

इनका कहना है-
मेडीकल कॉलेज मेें कोई भी ऐसी मौत नहीं हुई है। अगर ऐसा कुछ हुआ है तो मैं जानकारी लेकर ही कुछ कह सकूंगा।
अक्षय निगम, डीन मेडीकल कॉलेज शिवपुरी