सरकार हमारे साथ भेदभाव कर रही है, हमें बराबर का दर्जा नही दिया गया- धरने का दूसरा दिन- Shivpuri News

शिवपुरी।
मप्र सरकार हमारे साथ भेदभाव कर रही है,एक और सीएम शिवराज कहते है कि महिलाओं को बराबरी का हक मिलना चाहिए लेकिन हम महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं के साथ भेदभाव कर रही है,हमारे साथ ही शिक्षाकर्मी और सचिवों की नियुक्ति हुई थी, उन्हें शासकीय कर्मचारी का दर्जा दे दिया गया है लेकिन हमें नही। उक्त बात आंगनबाड़ी कार्यकर्ता संघ की जिला अध्यक्ष साधना पाठक ने धरना स्थल पर मीडिया से कही।

अध्यक्ष श्रीमती पाठक ने कहा हम कोरोना काल में शासन के सभी कर्मचारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चले,शासन के सभी महत्वपूर्ण कार्य जैसे मतगणना,निर्वाचन ओर स्वास्थ्य विभाग की कई योजनाएं हमारी कंधो पर है। हम गांव में घर घर जाकर शासन की जनहितैषी योजनाओं की क्रियान्वयन करते है लेकिन हमारा मानदेय नहीं बढ़ाया जाता है। सरकार को हमारी सभी मांगे माननी होगी।

धरना दूसरा दिन भी रहा जारी

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं ने 6 दिन की प्रदर्शन की चेतावनी पूर्व में दी थी और इसी संदर्भ में यह प्रदर्शन सोमवार से शुरू हुआ है। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने बताया कि जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्र में 6 दिनों तक ताले जड़े रहेंगे। यह धरना कलेक्ट्रेट रोड पर निर्वाचन कार्यालय के सामने आज भी रहा है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पूरे जोश के साथ इस धरने में भाग ले रही है। आज लगभग 3 सैकड़ा से अधिक कार्यकर्ता धरने पर बैठी थी। कार्यकर्ताओ के धरने पर जाने से जिले की लगभग 2275 आंगनबाड़ियों पर पर ताले लटक गए है। आंगनबाड़ी के सभी कार्यकर्ता ने निर्णय लिया है कि वह 23 जनवरी से शनिवार 28 जनवरी तक हड़ताल करेंगे। कोई कार्य नहीं करेंगे।

इन मांगों के लिए कर रहे हैं विरोध प्रदर्शन

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका संघ की जो मांग है उसमें आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं सहायिकाओं और मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को शासकीय कर्मचारी घोषित कर सभी शासकीय सुविधाओं का लाभ दो।

प्रदान किए जाने सरकार के द्वारा घोषित 1500 रुपए एरियर्स के साथ भुगतान किया जाने, राज्य सरकार को केंद्र सरकार से समन्वय कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका और मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की नियुक्ति प्रक्रिया के नियमों में संशोधन किए जाने, मानदेय या मानदेय की जगह नियमित और सीधी भर्ती की जाने और नियमावली बनाई जाने जब तक नियुक्ति प्रक्रिया में संशोधन नहीं किया जाता तब तक अतिरिक्त मानदेय में केन्द्र से निर्धारित महंगाई भत्ते को लागू कर भुगतान किया जाए।

कम से कम 18000-9000 रुपए कार्यकर्ता सहायिका को भुगतान किए जाने सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका और मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को विभाग की ओर से कम से कम पांच लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कराया सहित अन्य मांगे शामिल है।