Shivpuri News- तन्वी ने नींद की गोली का ओवरडोज लेने के बाद बहन से बात की थी, जुबान लड़खड़ा रही थी

पिछोर। शिवपुरी जिले के खोड स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ नर्स ने मंगलवार की दोपहर नीद की गोली का ओवरडोज लेकर अपनी जान दे दी। नर्स तन्वी की मौत के बाद मंगलवार बुधवार की देर रात बैतूल से शिवपुरी पहुंचे थे। परिजनों ने पुलिस को बताया था कि पिछले 3 साल से उनकी बेटी डिप्रेशन का शिकार थी और उसका भोपाल में इलाज चल रहा था। परिजन शव का पीएम कराकर अपने साथ बैतुल ले गए।

नर्स तन्वी तावड़े उम्र 27 साल बैतूल की रहने वाली थी और उसने मंगलवार को नींद की गोली का ओवरडोज लेकर अपनी जान दे दी। बैतूल से आए परिजन ने बताया कि तन्वी को अकेला रहना अच्छा नहीं लगता था, चूंकि उसकी खोड में नौकरी थी तो वह मजबूरी में अकेले रहती थी। इसी कारण से पिछले 3 साल से वह डिप्रेशन में थी और भोपाल की किसी डॉक्टर रितु से नर्स का डिप्रेशन का इलाज भी चल रहा था।

तन्वी की बहन बताया उसकी जुबान लड़खड़ा रही थी

तन्वी ने नींद की गोली खाने के बाद दोपहर करीब 12 बजे अपनी बहन से भी फोन पर बात की, उस समय तन्वी की जुबान लड़खड़ा रही थी। लेकिन तन्वी की बहन को यह पता नहीं था। कि उसने नींद की गोलियां का अधिक सेवन कर लिया है और फिर उसकी मौत हो जाएगी। अन्यथा वह अस्पताल में किसी न किसी से बात कर तन्वी की जान बचा लेती।

उधर पुलिस ने बुधवार को तनवी के शव का पीएम कराया और शव को परिजन को सुपुर्द कर दिया। परिजन शव को बैतूल अपने साथ ले गए जहां उन्होंने देर शाम. उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

सरल व सौम्य व्यवहार था तनवी का
अस्पताल के डॉक्टर अनुराग तिवारी व अन्य स्टाफ सहित आस पड़ोसियों ने बताया कि तनवी काफी सरल व सौम्य व्यवहार की थी। वह हमेशा हर किसी से अच्छे तरीके से बात करने के अलावा मन लगाकर काम करती थी। तन्वी की मौत के बाद स्वास्थ्य महकमे में शोक का माहौल है।

इनका कहना है
नर्स का तीन साल से भोपाल की किसी डॉक्टर से डिप्रेशन का इलाज चल रहा था। परिजन ने किसी के खिलाफ कोई बयान नहीं दिए है। हमने पीएम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया है।
अंशुल गुप्ता, चौकी प्रभारी, खोड