shivpuri news - 17 वर्षीय अविवाहित लड़की ने दिया बच्चे को जन्म, डॉक्टर भी नही समझ सके मामला

प्रदीप तोमर मोंटू@ शिवपुरी। खबर सरकारी अस्पताल से आ रही है कि सरकारी अस्पताल में एक 17 वर्षीय  अविवाहित लड़की  के यहां  प्रसव हुआ हैं। नाबालिग लडकी ने आज शाम 7 बजे एक स्वस्थ लड़के को जन्म दिया है। इस मामले में सबसे खास बात है कि लड़की के परिजनों के साथ साथ अस्पताल के डॉक्टर भी यह समझ नहीं सके की लडकी 9 माह की प्रेग्नेंट है इस कारण उसे पेट दर्द की शिकायत पर आज सुबह 6 बजे सर्जिकल वार्ड में भर्ती किया था और और आज शाम 7 बजे सर्जिकल वार्ड के पलंग पर उसने एक स्वस्थ लडके का जन्म दिया। जब अस्पताल प्रबंधन को इसकी भनक लगी जब तत्कालीन जच्चा बच्चा को गायनिक वार्ड में भर्ती कराया गया।

जानकारी के अनुसार ठकुरपुरा में 10वीं क्लास की स्टूडेंट का आज सुबह घर पर सुबह 4 बजे पेट दर्द की शिकायत हुई। पेट दर्द होने पर उसे सुबह 6 बजे सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। बताया जा रहा है कि डॉक्टरों ने उसका चैकअप कर उसे सर्जिकल वार्ड जो अस्पताल की दूसरी मंजिल पर स्थित है उसमें भर्ती किया। आज दिन भर से उसे बोलते चढ रही थी लडकी को धीमा धीमा पेट दर्द बना रहा था।

आज शाम अचानक 7 बजे के करीब सर्जिकल वार्ड में भर्ती लडकी को तेज दर्द हुआ और उसने सर्जिकल वार्ड के पलंग पर ही बिना किसी डॉक्टरी सहायता के एक स्वस्थ लड़के को जन्म दिया। उसकी मां उसके पास थी वह भी नही समझ सकी की लड़की प्रेग्नेंट और उसकी डिलेवरी होने वाली है। जब अस्पताल प्रबंधन को इस बात की भनक लगी,तत्काल प्रबंधन ने उसे गायनिक वार्ड में भर्ती कर जच्चा बच्चा का चेकअप किया। बताया जा रहा है कि लडका पूरी तरह स्वस्थ है और उसकी अविवाहित मां भी स्वस्थ हैं।

कुंवारी मां बनी लडकी की मा बोली पता नहीं था कि
कुंवारी मां बनी लड़की की मां का कहना था कि हमें नहीं पता चला कि लड़की प्रेग्नेंट है। वह शरीर से लगातार मोटी हो रही थी हमें लग रहा था कि चावल खाती है इसलिए मोटी हो रही हैं। वही मां ने बताया कि उसका चार दिन पूर्व पेट दर्द हुआ था तब इसे मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया था जब डॉक्टरों ने इसको बोतले चढाई थी और दवा दी थी,जब भी डॉक्टरों ने नहीं बताया कि लड़की प्रेग्नेंट है।

पिता ने कहा मुंह दिखाने के काबिल नही रहा,लडकी की भाभी पर शक
कुंवारी मां बनी लड़की के पिता का कहना था कि मेरे 6 बच्चे है 2 लडकी और 4 लडके हैें। यह लड़की चौथे नंबर की है मे मकानो पर कारीगरी कर अपना और अपने बच्चो का पेट भरता हूं,अब यह काम हो गया अब में किसी को मुंह दिखाने के काबिल नहीं रहा हूं। बच्चा किसका हो सकता है इस पर पूछने पर कहा कि पास में एक महिला रहती है जिसका नाम कल्लो है उसका चाल चलन ठीक नहीं है यह उसकी करतूत हैं।

मां बोली बेटी कुछ बोल नहीं रही
मां ने कहा की बेटी कुछ बोल नहीं रही हैं यह भी बता नहीं पा रही कि इस बच्चे का बाप कौन हैं। सूत्र बता रहे है कि नाबालिग वैश्यावृति का शिकार हुई है वह महिला शहर में धंधा करने के लिए मशहूर है और पिता ने भी इस बात का समर्थन किया था कि उस महिला का चाल चलन सही नहीं है वेश्यावृत्ति का काम दबाव डालकर किया जा रहा था की राजी राजी सवाल अभी खडा हैं यह सवाल भी खडा है कि यह किसी अफेयर की देन तो नहीं है यह बच्चा। इस मामले में कई सवाल खडे हो रहे हैं यह आगे अब पुलिस की जांच का विषय है कि क्यों की कुंवारी लड़की जो मां बनी है वह नाबालिग हैें।

अस्पताल के डॉक्टरों पर भी सवाल
जैसा कि लडकी के पिता ने बताया कि उसका पेट दर्द हुआ था इस कारण उसे सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया था। डॉक्टरों ने उसे सर्जिकल वार्ड में भर्ती कराया। लडकी का चैकअप करने वाले डॉक्टर भी नही समझ सके कि लडकी 9 माह की प्रेग्नेंट हैं इस कारण ही उसने सर्जिकल वार्ड में बच्चे को जन्म दिया हैं। यह डॉक्टर की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खडे हो रहे है कि क्या ऐसे ही अस्पताल में इलाज किया जाता है। वही मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर भी लडकी की प्रेग्नेंसी का पता नही कर सके वहां भी भगवान भरोसे ही मरीजों का इलाज होता है यह बात इस घटना से सिद्ध होती हैं।