शिवपुरी जिले में हादसों से भरा रहा गुरुवार-7 मौतें: देव की मौत कारण जानने बैचेन शहर- Shivpuri News

शिवपुरी।
शिवपुरी जिले में पिछले 24 घंटे में हादसो में 7 मौतें होने की खबर मिल रही हैं। यह सभी हादसे जिले के अलग अलग थाना क्षेत्रो में हुई हैं। शहर में दुबे की मौत का कारण जानने के लिए शहर बैचेन हैं,कि एक सफल स्टूडेंट अपने कॉलेज चयन के एक दिन पूर्व फांसी पर क्यों लटक गया। वही अपने लाल को बचाने के लिए मां ने भी अपने प्राण संकट में डाल दिए जिससे उसकी मौत हो गई। वही तेंदुआ में लापरवाही पूर्वक खेतों में बिछाई जाने वाले बिजली के तारों के कारण 2 मौतें हो गई।

पोहरी में अपने लाल को बचाने मां के भी चले गए प्राण

खबर पोहरी अनुविभाग से देर शाम को दुखद खबर आई कि पोहरी थाना क्षेत्र के सलोदा गांव में 24 साल की प्रीति कुशवाहा अपने डेढ़ साल के मासूम बेटे प्रशांत कुशवाह के साथ कुएं पर कपड़े धोने गई थी। मां कुएं पर कपड़े धो रही थी। इसी दौरान उसका बच्चा कुएं के पास ही खेल रहा था, तभी अचानक खेलते हुए बच्चा कुएं में गिर पड़ा। जिसे बचाने मां ने भी कुएं में छलांग लगा दी। प्रीति को तैरना नहीं आता था,जिस कारण मां बेटे की कुएं में डूबने से मौत हो गई।

दिनारा थाना क्षेत्र में ऑटो पलटने से वृद्ध की मौत

जानकारी के मुताबिक सुरेंद्र सिंह उम्र 60 साल पुत्र भवानी सिंह परमार निवासी ढांड बुधवार को अपने भाई महेंद्र सिंह और बेटा राजा परमार के संग इलाज कराने झांसी जाने ऑटो क्रमांक यूपी 93 सीटी 1171 में सवार हुआ। दिनारा से आगे फूला माता मंदिर के पास ऑटो पलट गया। हादसे में सुरेंद्र सिंह परमार को नाक और पसली में चोट आई। इलाज कराने बुधवार को झांसी ले गए जहां इलाज के दौरान गुरुवार की सुबह सुरेंद्र सिंह की मौत हो गई है।

अमोला थाना क्षेत्र-अनियंत्रित होकर पलटा ट्रैक्टर, चालक की मौत

जानकारी के अनुसार महेश जाटव 25 पुत्र घनश्याम जाटव ट्रैक्टर से भूसा का भाड़ा खाली कर टीला गांव से अपने घर बघरा लोट रहा था। तभी गांव से कुछ दूरी पर ट्रैक्टर अचानक अनियंत्रित होकर पलट गया। इसके नीचे दबने से चालक महेश की मौके पर ही मौत हो गई।

ट्रैक्टर पलटने की सूचना जब परिजनों को लगी तो वह मौके पर पहुंचे और ट्रैक्टर के नीचे दबे महेश को निकला किन्तु जब तक उसकी मौत हो चुकी थी अमोला थाना पुलिस ने मर्ग कायम कर शव का पोस्टमार्टम कराया और शव परिजनों को सौंप दिया।

तेंदुआ में करंट की चपेट में आने से 2 की मौत

तेंदुआ थाना क्षेत्र के कुमरौआ कॉलोनी गांव में गुरुवार की दोपहर में दो सगे भाई इंद्रभान आदिवासी उम्र 4 साल और राज वान आदिवासी उम्र 6 साल तालाब के किनारे खेल रहे थे। इसी दौरान दोनों भाई तालाब की पार के ऊपर से निकली बिजली की लाइन की चपेट में आ गए। इस पर इंद्रभान और राजभान के भुआ का बेटा उत्तम उम्र 22 साल ने जब को करंट लगते हुए देखा तो बचाने के फेर में वह भी बिजली के तारों में दौड़ते करंट की चपेट में आ गया। और तीनों बिजली के झटके के साथ दूर जा गिरे।

सूचना मिलते ही परिजनों ने तीनों को उपचार के लिए कोलारस के स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया पर डॉक्टर ने इंद्रभान और उत्तम को मृत घोषित कर दिया। इस हादसे में राजभान की जान बच गई। राजभान का उपचार कोलारस के स्वास्थ्य केंद्र में जारी है जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। तेंदुआ थाना पुलिस ने मर्ग कायम कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज जांच शुरु कर दी है।

IIT के होनहार स्टूडेंट की मौत का कारण जानने बेचैन शहर

शहर के फिजीकल क्षेत्र में बाजपेयी कॉलोनी में रहने वाले देव दुबे 20 पुत्र राजेंद्र दुबे की लाश गुरुवार की सुबह घर के कमरे में फंदे से लटकी मिली। पहली मंजिल पर बने कमरे में रस्सी का फंदे बनाकर देव ने फांसी लगाई। सुबह मां कमरे में पहुंची तो बेटे को फांसी के फंदे पर लटका देख चीख निकल गई। सूचना पर फिजीकल थाना पुलिस मौके पर पहुंची। पूछताछ में पता चला है कि देव दुबे का हाल ही में आईआईटी में चयन हो गया था।

24 नवंबर को देव को काउंसिलिंग के लिए ग्वालियर बुलाया गया था। काउंसिलिंग से पहले ही देव ने फांसी लगाकर जान दे दी। आईआईटी में सिलेक्ट होने की खुशी में परिवार में खुशी थी। काउंसिलिंग के लिए गुरुवार की सुबह जल्दी जाने के लिए खाना खाकर सो गए थे।

वहीं परिवार में इसी खुशी के चलते सुंदरकांड पाठ की तैयारी चल रही थी। शनिवार को सुंदरकांड से पहले ही देव की मौत होने से परिवार में मातम छा गया है,देव दुबे ने फांसी क्यों लगाई किसी को कारण समझ में नहीं आ रहा है पुलिस ने देव का मोबाइल और लैपटॉप जब्ती में लिया हैं। अब मोबाइल और लैपटॉप देव के फांसी लगाने को कारण स्पष्ट कर सकता हैं।