Shivpuri News- राठखेडा के क्षेत्र से आए लोग 24 घंटे से कर रहे थे कलेक्टर का इंतजार, मिला सिर्फ आश्वासन

शिवपुरी। आज शासकीय महाविद्यालय में आरक्षण की प्रक्रिया चल रही थी। जिसके चलते पूरा प्रशासनिक अमला इस आरक्षण की प्रक्रिया में लगा हुआ थी। दूसरी और मंत्री राठखेडा के क्षेत्र के निवासी कल जनसुनवाई होने के चलते अपनी शिकायत लेकर शिवपुरी आए परंतु यहां आकर पता चला कि कल तो कलेक्टर नपा के आरक्षण की प्रक्रिया में लगे हुए है।

जिसके चलते वह कलेक्टर का इंतजार करते हुए शिवपुरी में ही रूक गए। सुबह जब कलेक्टर नहीं आए तो भोले भाले ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट में पूछा कि कलेक्टर सहाब कब आएगे तो वहां बताया गया कि वह तो कॉलेज में मिलेंगें आज नहीं आएगे। बस फिर क्या था महिला और युवक पैदल पैदल कलेक्ट्रेट से इस तपती दोपहरी में कॉलेज जा पहुंचे। जहां पहुंचकर कलेक्टर से मिलना चाहा तो वहां भी कलेक्टर से मुलाकात नहीं हो सकी।

जानकारी के अनुसार राज्य मंत्री राठखेडा के क्षेत्र के नौगांव तिघरा में रहने वाले ग्रामीण मंगलवार से कलेक्ट्रेट में कलेक्टर को अपनी फरियाद सुनाने आए हैं लेकिन कलेक्टर साहब एवं अन्य अधिकारी उनकी समस्या सुनने को तैयार नहीं है। बेचारे ग्रामीणों ने अधिकारी के इंतजार में कलेक्ट्रेट के बाहर डेरा जमा लिया और रात यहीं गुजारी। सुबह होती ही ग्रामीण कलेक्ट्रेट निवास पर पहुंचे लेकिन गार्ड ने भी यहां से उन्हें चलता कर दिया और कहा कि सुबह 10 बजे कलेक्टर साहब ऑफिस आएंगे।

भोले—भाले ग्रामीण वापस कलेक्ट्रेट आ गए और कलेक्टर साहब का इंतजार करने लगे लेकिन फिर 10 बजे और एक घंटे से भी ज्यादा समय निकल गया तो ग्रामीणों ने पूछताछ की तो पता चला कि कलेक्टर साहब आए ही नहीं है। वह फिजीकल स्थित पीजी कॉलेज गए हैं। लगभग 6 दर्जन से अधिक ग्रामीण जिसमें महिलाएं भी शामिल थी वह पैदल—पैदल 4 किलोमीटर चलकर पीजी कॉलेज पहुंचे और यहां अधिकारियों को अपनी समस्या सुनाई। लेकिन यहां भी कोई हल नहीं निकला, अधिकारियों ने आवेदन हाथ में ले लिया और आश्वासन देकर ग्रामीणों को चलता कर दिया। बेचारे ग्रामीण भी आश्वासन लेकर वापस लौट गए।

शिकायत करते हुए ग्राम खरवाया, नौगांव तिघरा तहसील पोहरी के ग्रामीणों ईश्वरलाल, कमल सिंह, बबलेश, बलराम, विजयसिंह, कस्तूरी, अशोक, लच्छू आदि ने बताया कि यहां अधिकारी व कर्मचारी हमारी कोई सुनवाई नहीं करते हैं। वर्ष 2018—19 में प्रधानमंत्री आवास के लिए आज तक सर्वे नहीं किया गया है जबकि अन्य गांव में सर्वे हो चुके हैं। सहायक सचिव अनिल धाकड़ जातिवाद के आधार पर पंचायत खरवाया में काम कर रहा है तथा उसके स्वयं के परिवार में 21 नाम प्रधानमंत्री आवास में आए हैं जो सभी पात्र है उनके पास पक्का मकान व कृषि भूमि है।

ग्रामीणों ने बताया कि नौगांव तिघरा में हरिजन जाटव लोग निवास करते हैं वहां हरिजन बस्ती है तथा अत्यंत गरीब लोग होकर कच्ची पाटौर में निवास कर रहे हैं। सभी प्रधानमंत्री आवास के लिए पूर्ण पात्रता रखते हैं। सहायक सचिव द्धारा जातिवाद के आधार पर सर्वे किया जा रहा है इसलिए कार्रवाई कर सचिव को हटाया जाए और प्रधानमंत्री आवास के लिए संबंधित अधिकारियों को आदेश दिए जाएं।