आपदा में भी नहीं मान रहे मुनाफाखोर, जरूरत के सामान के बढ़ा दिए दाम - Shivpuri News

शिवपुरी। कोरोना के चलते शहर सहित अंचल में लॉकडाउन लगा दिया गया है अब शहर के बाजारों में सामान की किल्लत शुरू हो गई है। बाजारों से शक्कर सहित अन्य सामान की किल्लत गहराने लगी है तो दूसरी ओर मुनाफाखोर बाजार में मुनाफा कमाने में लगे हुए हैं।

क्रति 2300 के पार

लॉकडाउन का असर खाने के तेलों पर सबसे ज्यादा हुआ हैै। कभी 1700 रूपए में मिलने वाली क्रति तेल की 15 लीटर की कटटी की कीमत कुछ दिन पहले तक 2100 रूपए के आसपास थी लेकिन आज का भाव 2300 के पार है। ऐसे में लॉकडाउन के साथ साथ लोगों पर मंहगाई की मार भी देखने को मिल रही है।

तुअर दाल 120, मूंग छिलका 100

तुअर दाल के दाम कभी 90 और 100 रूपए के आसपास बने हुए थे लेकिन अब मंहगाई ने जोर पकड लिया है तो दूसरी ओर लॉकडाउन के चलते आज के दिन तुअर दाल का भाव 120 रूपए किलो तो मंंूग छिलका का दाम 100 रूपए किलो पर पहुंच गया है।

चना दाल 80 तो शक्कत 40 के पार

कोरोना तो दूसरी ओर लॉकडाउन ने लोगों की दुश्वारियां बढा दी हैं। काम पूरी तरह से ठप्प है तो दूसरी ओर मंहगाई बेलगाम छोडे की तरह दौड रही है। चना दाल का भाव 80 तो शक्कर 40 रूपए किलो पर पहुंच गई है। लोगों का कहना है कि किलर कोरोना लोगों की जान ले रहा है तो दूसरी ओर मंहगाई लोगों की कमर तोड रही है।

यह बोली महिलाएं

दालों के दाम लगातार आसमान छू रहे हैं। बाजार खुल नहीं रहे हैं ऐसे में छोटे दुकानदार मुंहमांगे दामों में सामान बेच रहे हैं।
शांति देवी गर्ग,ग्रहणी

सामान की आसमान छूती कीमतों के चलते किचिन का बजट पूरी तरह से बिगड गया है। ऐसे में प्रशासन को तेल से लेकर अन्य चीजों के दामों पर अंकुश लगाना चाहिए।
कल्लो बाथम,ग्रहणी

हम लोगों के घरों में बर्तन साफ कर किसी तरह से अपना परिवार चलाते हैं लेकिन दाल और तेल का दाम हर रोज बढ रहे हैं। ऐसे में घर चलाना मुश्किल हो रहा है। मंहगाई पर काबू होना चाहिए।
संतोषी सैन,ग्रहणी