बुजुर्ग अकेले रहते थे इसलिए बनाया घर को निशाना, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के घर हुई लूट का मामला ट्रेस - Shivpuri News

शिवपुरी। स्वतंत्रता सेनानी प्रेमनारायण नागर के घर पर 9 मई को दो बदमाशों ने लूट की घटना को अंजाम दिया था। उस समय उनके बेटे दिलीप नागर उम्र 70 वर्ष और उनकी बहू नीता नागर उम्र 66 वर्ष घर में मौजूद थे। बुजुर्ग नागर दंपत्ति ने साहस के साथ बदमाशों का मुकाबला किया, जिसके कारण वह लूट की बड़ी घटना को अंजाम नहीं दे पाए।

संघर्ष के बाद बदमाश बिस्तर के नीचे रखे 10 हजार रुपये लेकर भाग गए थे। पुलिस ने इस घटना के एक आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। इसमें पता चला कि घटना को अंजाम शहर के हिस्ट्रीशीटर ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर अंजाम दिया था।

जानकारी के अनुसार, पुलिस को विवेचना में पता चला कि उक्त घटना को अंजाम थाने के एक हिस्ट्रीशीटर द्वारा तीन अन्य साथियों के साथ मिलकर दिया है। इस पर से दबिश देकर गोपाल मंदिर के पास कमलागंज से दुर्योधन आदिवासी निवासी मनियर को गिरफ्तार किया है। इसके साथी भगत सहित दो अन्य फरार हैं। दुर्योधन अपराधिक प्रवृत्ति का है और थाने में उसका नाम हिस्ट्रीशीटर में दर्ज है। पूछताछ में उसने बताया कि उन्होंने इस घर को इसलिए टारगेट किया क्योंकि यहां पर बुजुर्ग दंपत्ति अकेले रहते हैं।

बदमाशों ने पहले ही इसकी रैकी कर ली थी और फिर मौका देखकर लूट की घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने आरोपित के पास से दो हजार रुपये भी बरामद किए हैं। कार्रवाई में एसडीओपी सुधीर सिंह कुशवाह के नेतृत्व में थाना प्रभारी कोतवाली बादाम सिंह यादव, थाना प्रभारी यातायात सूबेदार रणवीर सिंह यादव, कार्यवाहक उनि रामचंद्र शर्मा, उनि रामेश्वर शर्मा, कार्यवाहक प्रधान आरक्षक सियाराम धाकड़, आरक्षक नरेश, भूपेंद्र, रामजी पाराशर और शरद यादव की सराहनीय भूमिका रही।

इनका कहना है
लूट के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार किया है। यह हिस्ट्रीशीटर है और इसने यह जानकारी लेने के बाद कि बुजुर्ग घर में अकेले रहते हैं घटना को अंजाम दिया था। उससे पूछताछ जारी है। आरोपित कोतवाली थाना क्षेत्र की एक अन्य चोरी में भी शामिल है।
सुधीर सिंह कुशवाह, एसडीओपी।