KARERA में ही मिलेगा संक्रमितों को इलाज, ऑक्सीजन लेवल 90 से कम होने पर ही मरीज शिवपुरी रैफर होंगे

करैरा। अब करैरा अस्पताल की अलग बिल्डिंग में 10 बेड का कोविड केयर सेंटर बन गया है। इसमें पांच बेड आईसीयू और पांच बेड नॉन आइसीयू के शुरू किए हैं। अब कोविड पॉजिटिव मरीज को शिवपुरी रेफर नही किया जाएगा, जिस मरीज का आक्सीजन लेवल 90 से कम आएगा, उसे ही शिवपुरी रेफर किया जाएगा।

शिवपुरी जिले की करैरा तहसील के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर कोरोना महामारी के समय स्थानीय और ग्रामीण अंचल के मरीजों को समय पर इलाज न मिलने के कारण कोविड से मरने वाले मरीजों की संख्या में तेजी से बढोत्तरी हुई थी।

इसके चलते चारों तरफ नगर में अस्पताल की अव्यवस्थाओं को लेकर लोंगो ने इंटरनेट मीडिया पर वीडियो बनाकर वायरल किया। करैरा के जनप्रतिनिधियों ने तत्काल अव्यवस्थाओं को संज्ञान लेते हुए जिला प्रशासन सहित स्थानीय प्रशासन से तत्काल व्यवस्था सुधारे जाने की मांग की।

कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने करैरा अस्पताल की स्थित का मौका मुआयना किया। साथ ग्वालियर सांसद विवेक शेजवलकर ने वीडियो वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से अस्पताल प्रंबधक करैरा एसडीएम से जानकारी ली तो करैरा के पूर्व विधायक जसमंत जाटव ने अस्पताल की सारी पोल सांसद शेजवलकर के सामने खोलकर रख दी।

इसके तत्पश्चात करैरा बीएमओ को हटाकर दिनारा के डॉ. बीके रावत को करैरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का बीएमओ नियुक्त कर दिया। करैरा नगर मे कोरोना महामारी से अब तक 30 लोगों से अधिक की जान जा चुकी है। इन तीन दिनों में डॉ. बीके रावत ने पदभार ग्रहण करते ही अस्पताल की दशा ही बदल गई।

अब करैरा अस्पताल की अलग बिल्डिंग में 10 बेड का कोविड केयर सेंटर तैयार किया। इसमें पांच बेड आईसीयू और पांच बेड नॉन आइसीयू के शुरू किए गए हैं।

बीएमओ डॉ. रावत ने बताया कि अब कोविड पाजिटिव मरीज को शिवपुरी रेफर नही किया जाएगा। जो मरीज 90 आक्सीजन से कम आएगी उस मरीज को ही शिवपुरी रेफर किया जाएगा अस्पताल मे 15 ऑक्सीजन सिलेंडर और एक कंसंट्रेटर मशीन उपलब्ध है।

कोविड वार्ड मे 24 घंटे डॉक्टर, नर्स, वार्ड बाय अगल अगल ड्यूटी मे रहेंगे। सामान्य मरीज को अब हम कोविड मरीज से अलग ही रखेंगे और सामान्य बीमारी वाले मरीज को अस्पताल की ऊपर बिल्डिंग मे बेड लगाकर इलाज की सुविधा देंगे।

कोविड आइसीयू के प्रभारी बने डॉ. देवेंद्र खरे

डॉ. देवेंद्र खरे को कोविड 19 आइसीयू का प्रभारी बनाया गया है। कोविड प्रभारी डॉ. खरे ने बताया कि पहले पूर्व बीएमओ प्रदीप शर्मा के समय कोविड मरीज और सामान्य मरीज को एक ही जगह देखा जाता था जिससे आधा स्टाफ कोविड पाजिटिव हो गया था। अब कोविड वार्ड अलग तैयार किया गया है।

मरीज के स्वजनों को मिलने के लिए पीछे खिड़की की व्यवस्था है जिससे वे अपने मरीज को देख सकें। पिछले तीन दिनों में चार कोविड पॉजिटिव मरीज भर्ती हैं। आक्सीजन लेवल कम आने पर उन्हें आक्सीजन दी जा रही है।