इंतजार था बारात का लेकिन बिन बुलाए प्रशासन पहुंच गया, 16 साल की लड़की को बालविवाह से बचाया - narwar News

नरवर। कोरोना संक्रमण के कारण जिले में कफयू प्रभावी हैं कलेक्टर शिवपुरी ने शादियों पर रोक लगा रखी हैं,और इसके लिए जागरूकता अभियान और सख्ती के प्रयास भी किए जा रहे हैं,लेकिन जिले में शादिया रूकने का नाम नही ले रही है। शादी भी हो रही है साथ में बालविवाह भी किए जा रहे हैं ऐसे ही एक बाल विवाह को प्रशासन की टीम ने जाकर रूकवाया।

जानकारी मिल रही है कि बीते रोज चाइल्ड लाइन नंबर 1098 पर मिली सूचना पर परियोजना अधिकारी रविरमन पराशर,सेक्टर पर्यवेक्षक निशा सिकरवार एवं पुलिस थाना नरवर से सहायक उपनिरीक्षक दिनेश यादव एवं अवधेश रावत के द्वारा सरखडपुर में मौके पर जाकर बालिका के उम्र संबंधी दस्तावेज मांगे,जिस पर परिजनों ने उम्र प्रमाण तो उपलब्ध नहीं करवाए,पर उन्होंने टीम को लिखित आस्वासन दिया कि वे अभी अपनी बेटी का विवाह नहीं करेंगे।

चाइल्ड लाइन पर शाम 7 बजे सूचनादाता ने बताया कि नरवर विकासखंड के सरखड़पुर गांव में यादव परिवार की 16 वर्षीय बेटी का बाल विवाह हो रहा है। सूचना पर टीम ने रात्रि 8 बजे गांव में पहुंचकर परिजनों को विवाह आयोजनों पर रोक होने एवं 18 वर्ष से पहले लड़की का विवाह न करने के संबंध में समझाया तो उन्होंने लिखित बचनपत्र दिया कि जब तक लड़की 18 वर्ष की नहीं हो जाती तब तक विवाह नहीं करेंगे। वहीं ग्रामवासियों ने पंचनामा दिया कि वे गांव में बाल विवाह का आयोजन नहीं होने देंगे।