शिवपुरी अस्पताल में कोविड का मुफ्त इलाज नही, एक मात्र मरीज के लिए बजार से मंगाया इंजेक्शन - Shivpuri News

शिवपुरी। पूरी दुनिया को हिलाने वाली कोरोना महामारी से लडने के लिए सरकारो ने दिल खोलकर पैसा खर्च किया हैं। अब कोरोना से सीधे-सीधे लडने के लिए वैक्सीन भी आ गई हैं। हम कोरोना से जीत की ओर हैं लेकिन जिला अस्पताल में कोरोना से लडने के लिए इंजेक्शन तक नही हैं।

वैसे तो जिला अस्पताल प्रतिदिन किसी न किसी कारण समाचार पत्रो की सुर्खियो में रहता हैं,जानकारी मिल रही हैं कि कोविड के आईसीयू में वर्तमान समय में 1 मात्र मरीज भर्ती हैं उसके भी ईलाज में अस्पताल लापरवाही बरत रहा हैं।

जिला अस्पताल शिवपुरी के कोविड आईसीयू में 31 जनवरी को श्योपुर जिले की कैड़ा बाई आदिवासी पत्नी रामभरत भर्ती हुई है। खून पतला करने के लिए लोमोह-40 इंजेक्शन बाजार में उपलब्ध हैं। लेकिन पति रामभरत आदिवासी को दो दिनों से यह इंजेक्शन मार्केट से नगद रुपए देकर खरीदकर लाना पड़ रहा है।

पत्नी के इलाज के लिए एक इंजेक्शन पर 400 रु. खर्च हो रहे हैं। खास बात यह है कि यह इंजेक्शन जिला अस्पताल शिवपुरी में उपलब्ध है। स्टोर में होते हुए भी मरीज के इलाज के लिए डॉक्टर द्वारा इंजेक्शन खरीदने के लिए बाजार भेजा जा रहा है।

सीएमएचओ ने सिविल सर्जन से बात की,जांच शुरू

बाजार से इंजेक्शन खरीदने के बारे में पता चलने पर नए सीएमएचओ डॉ पवन जैन ने सिविल सर्जन से बात की। तब पता चला कि उक्त इंजेक्शन जिला अस्पताल के स्टोर में उपलब्ध हैं। इंजेक्शन स्टोर से ना मंगाते हुए मरीज से क्यों और किसके द्वारा मंगवाया जा रहा है, इसकी जांच कराने की बात कही जा रही है।

इंजेक्शन खरीदने अटेंडेंट को किसने बाजार भेजा, इसकी जांच कराएंगे

यह मामला आपके द्वारा मेरे संज्ञान में लाया है। लोमोह-40 इंजेक्शन स्टोर में उपलब्ध है। बाजार से इंजेक्शन खरीदकर लाने के लिए मरीज के अटेंडर को किसने भेजा, इस मामले की जांच कराएंगे।
डॉ पीके खरे, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल शिवपुरी