बीआरसी कार्यालय में लगेगा दिव्यांग शिविर 4 फरवरी कोःबच्चो को लाने की जिम्मेदारी शिक्षको की - khaniyadhana News

पिछोर। खनियाधाना में दिव्यांग बच्चों के लिए जो भी बच्चे विकलांग है बोल नहीं पाते अथवा सुन नहीं पाते हाथ पैर से विकलांग है किसी भी प्रकार के विकलांग दिव्यांग बच्चों की जांच जांच 4 फरवरी को बीआरसी कार्यालय में होगी।

पहली क्लास से आठवीं क्लास तक के बच्चों को स्पेशलिस्ट डॉक्टरों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया जावेगा जिसमें मानसिक रूप से विकलांग दृष्टिबाधित मूक बधिर अस्थि बाधित बच्चों का परीक्षण किया जाएगा और जो बच्चे अधिक विकलांग की श्रेणी में आते हैं उन्हें जबलपुर की एडमिन को टीम द्वारा इंस्ट्रूमेंट दिए जाएंगे तथा सर्टिफिकेट बनाए जाएंगे।

प्रभारी बीआरसी मुकेश पटेरिया ने जानकारी देते हुए बताया प्रत्येक विद्यालय के प्रधानाध्यापक एवं अध्ययनरत साला की कक्षा के कक्षा अध्यापक जिम्मेवार हो कोई भी विकलांग बच्चा जो साला में अध्ययनरत हो छूट ना पावे सभी बच्चों का 4 फरवरी को बीआरसी कार्यालय में परीक्षण करवाकर योजना का लाभ दिलवाने में मदद करें।

जो भी बच्चे जिस विद्यालय के छूट जाएंगे वह संबंधित विद्यालय के प्रधानाध्यापक एवं कक्षा अध्यापक जिम्मेवार हो जो भी विद्यालय मैं पढ़ने वाले बच्चे वंचित रह जाएंगे इसकी पूर्ण जिम्मेवारी विद्यालय प्रमुख प्रधानाध्यापक एवं कक्षा अध्यापक की संयुक्त रूप से होगी और उनके विरुद्ध वरिष्ठ कार्यालय के निर्देशानुसार अनुशासनात्मक कार्यवाही की जावेगी सभी पालिका एवं विद्यालयों से विनम्र अनुरोध है कि वह दिव्यांग विकलांग बच्चों का 4 फरवरी को परीक्षण करवाएं।