CM हैल्पलाईन की जिले मे हुई फजीहत, इस हैल्पलाईन को भी हैल्प की जरूरत: कोई नही सुनता इसकी - KARERA NEWS

करैरा।
करैरा तहसील के ग्राम सलैया डामरौन में पदस्थ शिक्षक सुमित कुमार चौबे को अपने वर्ष 2018-19 में दो माह का अतिरिक्त वेतन प्राप्त करने के लिए शासन की महत्वाकांक्षी सीएम हेल्पलाईन की शरण लेनी पड़ी। लेकिन इस सीएम हेल्पलाईन को शिक्षा विभाग के ही मातहत ठेंगा दिखाने का काम कर रहे है।

अतिथि शिक्षक सुमित कुमार चौबे ने अपने दो माह के वेतन को प्राप्त करने के लिए एक ओर जहां संकुल केन्द्र प्रभारी से कई बार संपर्क किया। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। तब वह जिला मुख्यालय स्थित जिला शिक्षा अधिकारी के पास पहुंचे।

यहां पदस्थ तत्कालीन डीईओ अजय कटियार ने इस मामले को लेकर गंभीरता भी दिखाई लेकिन वह भी कोई निर्णय नहीं करा सके और अंतत: मृतक बाबू वृन्दावन शर्मा आत्महत्या काण्ड में आरोपी बनाए जाने को लेकर यहां से हट गए और उनके स्थान पर अब दीपक कुमार पाण्डे जिला शिक्षा अधिकारी के रूप में आए है।

बाबजूद इसके अतिथि शिक्षक सुमित कुमार चौबे का यह वेतन आज दिनांक प्राप्त नहीं हो सका। ऐसे में मुख्यमंत्री शिकायत के नाम से संचालित सीएम हेल्पलाईन में 30.11.2019 को शिकायत कर अपने वेतन को प्राप्त करने को लेकर शिकायत की थी।

जिस पर आयुक्त शिक्षा विभाग से 30.07.2019 संपूर्ण प्रदेश के अतिथि शिक्षकों के लिए वेतन आहरण संबंधी आदेश भी जारी कर दिए थे। बाबजूद इसके जब सुमित को अपना वेतन नहीं मिला तब वह आयुक्त शिक्षा विभाग के आदेश 4 माह बाद सीएम हेल्पलाईन में अपना वेतन प्राप्त करने को लेकर 181 में अपनी आपत्ति दर्ज कराई। बाबजूदइ सके शिक्षा विभाग और संकुल का यह हाल है कि वह आज दिनांक तक भी अतिथि शिक्षक सुमित कुमार चौबे का वेतन प्रदाय नहीं कर सके।

इनका कहना है
इस मामले को लेकर मैं मामले की जांच करूंगा और देखूंगा कहां किस तरह यह नियुक्ति हुई और क्यों वेतन रोका गया फिलहाल मेरे पास मामले की जानकारी नहीं है जांच के बाद ही कुछ कह सकूंगा।
तेज सिंह जाटव,संकुल प्राचार्य, दिनारा