परिवार परामर्श: 6 प्रकरणों में से 3 में हुआ राजीनामा,3 को वापस भेजा

शिवपुरी। स्थानीय पुलिस कंट्रोल रूम में रविवार को आयोजित परिवार परामर्श केन्द्र के शिविर में कुल 14 प्रकरण प्रस्तुत किये गए। जिनमें 5 प्रकरणों में केवल एक पक्ष उपस्थित हुआ वहीं 02 प्रकरण में दोनों ही पक्ष अनुपस्थित रहे। 1 प्रकरण में पारामर्श हेतु आगामी दिनांक को पुन: बुलाया गया। 3 प्रकरणों में महिला पुलिस थाने को कार्यवाही हेतु वापिस भेजे गए। और इस प्रकार कुल 6 प्रकरणों में परामर्श किया गया जिनमें 3 प्रकरणों में राजीनामा हुआ और 3 प्रकरण महिला पुलिस थाने अन्य कार्रवाई हेतु वापस किए गए।

ग्वालियर जॉन के आईजी राजाबाबू सिंह के कुशल मार्गदर्शन और शिवपुरी पुलिस कप्तान राजेश सिंह चंदेल की पहल और निर्देशन में चलाए जा रहे परिवार परामर्श के शिविरों में  आपसी समझौतों कराकर परिवारों को टूटने से बचाने का अनुकर्णीय काम जिला पुलिस परिवार परामर्श केन्द्र के द्वारा किया जा रहा है। पुलिस परिवार परामर्श केन्द्र के इस शिविर में पुलिस अधीक्षक महोदय की धर्मपत्नी श्रीमती रीना सिंह जो कि पदेन सदस्य हैं ने भी भाग लेकर परामर्श दाताओं के साथ बैठकर परामर्श किया।

ग्वालियर निवासी राजू का उसकी पत्नी सीमा से विवाद चल रहा था राजू एम कॉम तक पढ़ा है और उसकी पत्नी भी ग्रेजुएट है जो शिवपुरी निवासी है इन दोनों के बीच विवाद का विषय राजू की पत्नी का उसके बड़े भाई और भाभी यानी जेठ जेठानी से नहीं बन रही थी और गृह कलेश के चलते वह कमला गंज स्थित अपने मायके में रह रही थी काउन्सलरों की समझाइश पर पति पत्नी दोनों ही एक साथ रहने को सहमत हो गए और इसमें राजीनामा हो गया इसमें यह तय पाया गया पति 3 माह के भीतर ग्वालियर में अलग कमरा ले लेगा और पति-पत्नि दोनों साथ रहेंगे।

एक अन्य प्रकरण में राजू निवासी सबलगढ़ का विवाह शिवपुरी निवासी ललिता के साथ 7 साल पहले संपन्न हुआ था और उनके दो लड़के भी थे इन दोनों के बीच विवाद का विषय था लड़के का बार-बार अपने पिता के घर जाना जिसके कारण पत्नी उसके साथ विवाद करती थी। काउंसलरों नेे दोनों को समझाइश दी कि लड़का भी अपने माता-पिता के आ जाएगा और पत्नी भी अपने माता-पिता के यहां जाएगी और दोनों इस बात से सहमत हो गए थे। और पत्नि अपने पति के घर चली गई। इस प्रकरण में एक महा बाद उन्हें वापस आकर परामर्श केंद्र में पुन: उपस्थित होकर स्थिति से अवगत कराने को कहा गया हैं।

कार्यक्रम के प्रारंभ में परिवार परामर्श की पदेन सदस्य पुलिस अधीक्षक की धर्मपत्नी श्रीमती रेनू सिंह जिन्होंने आज पहली बार परामर्श केंद्र पर पहुंचकर काउंसलिंग में भाग लिया। इस अवसर पर महिला और पुरुष सदस्यों के द्वारा पुरुष के साथ श्रीमती रेनू सिंह का स्वागत किया गया उन्होंने परिवार परामर्श केंद्र शिवपुरी के प्रयासों को सराहा और इसे समाज के लिए बहुत उपयोगी बताया इस शिविर में  एसपी राजेश सिंह चंदेल ,जिला संयोजक आलोक एम इंदौरिया, सब इंस्पेक्टर कोमल परिहार, सब इंस्पेक्टर प्रियंका जैन  मथुरा प्रसाद गुप्ता , राजेन्द्र राठौर, भरत अग्रवाल, राकेश शर्मा,   समीर गांधी, राहुल गंगवाल, राजेश गुप्ता राम हरवीर सिंह चौहान, आनंदिता गांधी, नम्रता गर्ग,  मृदुला राठी, गुंजन खैमरिया, श्वेता गंगवाल, बिंदु छिब्बर सहित महिला सेल का स्टाफ मौजूद था।

पुलिस कप्तान की मानवीयता और सदस्यों का प्रयास

शिवपुरी। परिवार परामर्श केन्द्र के सदस्यों के सामूहिक प्रयासों और शिवपुरी के पुलिस कप्तान राजेश सिंह चंदेल की मानवीयता के चलते अब श्रीमती खुशबू के दिल के छेद की गंभीर बीमारी का उपचार हो सकेगा। दरअसल रविवार को आयोजित परिवार परामर्श के शिविर में शिवपुरी जिले के पिपरघार निवासी प्रशांत जादौन अपनी पत्नि खुशबू जादौन को और पांच साल के बच्चे को लेकर उपस्थित हुआ। पहले वहां तैनात स्टाफ को लगा कि संभवत: परामर्श का मसला है लेकिन उन्होंने वहां उपस्थित काउन्सलर समीर गांधी को बताया कि उनकी आर्थिक परिस्थिति बहुत खराब है और उनके पास बीपीएल कार्ड भी नहीं है और उनकी पत्नि खुशबू के दिल में छेद हैं।

जिसके इलाज की सख्त जरूरत हैं। उक्त प्रकरण वहां उपस्थित कप्तान राजेश सिंह चंदेल को बताया गया तो उन्होंने तत्काल गंभीरता के साथ मानवीय रूख अपनाते हुए सीएमएचओ डॉ. एएल शर्मा से फोन पर बात की और उक्त महिला के समुचित उपचार की व्यवस्थायें सुनिश्चित करने के लिए कहा। तात्कालिक तौर पर दवाई एवं अन्य सामान हेतु परिवार परामर्श केन्द्र के सदस्यों ने सहायता राशि एकत्रित की और परामर्श केन्द्र की पदेन सदस्य श्रीमती रेनू सिंह एवं पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह चंदेल के हाथों तत्काल ही खशबू को सौंप दी गई। इसके साथ ही श्रीमती खुशबू को सीएमएचओ शिवपुरी ने बुलवाया है ताकि उसके इलाज की उचित व्यवस्था की जा सके  पुलिस कप्तान की इस मानवीय पहल की सर्वत्र सराहना की जा रही है।