तालाब के निर्माण में रहा है श्रम घोटाला, मजदूरो से काम न कराकर मशीनो से हो रहा है काम | karera News

करैरा। जनपद पंचायत करैरा के ग्राम मुंगावली के मजरा डाडापुरा में रोजगार गारंटी से बनाया जा रहा 7 लाख 35 हजार की लागत से तालाब निर्माण में सरपंच पति प सचिव ने मजदूरों से काम न कराकर मशीनों से तालाब का काम कराया हैए जिससे ग्राम के सैकडों मजदूरों को मजदूरी से वंचित रखा गया, अपने लाभ के चक्कर में मजदूरों को ग्राम से पलायन करने को विवश किया गया।

जब इस संबंध में जपं सीईओ गिर्राज दुबे से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि अगर सरपंच पति और सचिव के द्वारा रोजगार गारंटी योजना में किसी भी प्रकार की कोताही की गई है। मजदूरों की जगह पर मशीनों से काम किया गया है तो यह बिल्कुल गलत है। सहायक यंत्री को भेजकर इस निर्माण कार्य मे पलीता लगाने वालों के खिलाफ जरूर कार्रवाई करेंगे।  

ग्राम डाडा पुरा के निवासी राधेलाल बघेल ने बताया कि हमारे गांव के सरपंच पति एक शासकीय शिक्षक के पद पर पदस्थ है, जो पिछले दस सालों से इस ग्राम के सरपंच बने हैं। इनके द्वारा कार्यों में लापरवाही कर लाखों का गमन किया गया है। अगर इसकी निष्पक्ष रूप से जांच करा ली जाए तो सब उजागर हो जाएगा।

रोजगार गारंटी से बनाया जा रहा 7 लाख 35 हजार की लागत से तालाब निर्माण में मजदूरों से काम न कराकर मशीनों से काम करा दिया, यह काम महीनों में होना चाहिए था। वह काम सचिव और सरपंच पति ने दस दिनों में ही करा दिया और मजदूरों का फर्जी मस्टर लगाकर भुगतान की प्रक्रिया चल रही है।

ग्राम पंचायत मुंगावली के सचिव अपने मुख्यालय पर निवास न करते हुए ग्राम से 15 किलोमीटर दूर जुझाई गांव में निवास करता है। अगर किसी भी ग्राम के लोगों को कोई काम होता है तो लोगों को इनके चक्कर काटना पडता है। फ ोन से संपर्क करो तो यह फ ोन बंद कर लेते हैं और अगर फ ोन कभी उठा लेते हैं तो बात करना पसंद नहीं करते हैं। ऐसी स्थिति में ग्राम के लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा है।

तालाब निर्माण के समय सचिव ने नहीं की मॉनीटरिंग
जब ग्राम मुंगावली में तालाब का निर्माण कार्य चल रहा था, तभी कुछ समय के लिए करैरा आया हुआ थाए उस समय कोई भी मशीन से काम नहीं चल रहा था, हो सकता है कि मेरे जाने के बाद सरपंच पति ने मशीनों से काम करवाया हो। इस संबंध में वह सही जानकारी दे पाएंगे।
वीरेंद्र रायकवार, सचिव मुंगावली।

अगर ग्राम मुंगावली में रोजगार गारंटी योजना के तहत मजदूरों की जगह मशीनों से काम हुआ है तो हम सरपंच सचिव के खिलाफ जरूर कार्रवाई करेंगे।
गिर्राज दुबे, जपं सीईओ करैरा।