Ads 720 x 90

बडी खबर: रात के अंधेरे में चने में कचरा मिला रहा था ​समिति प्रबंधक, नेफेड ने पकड़ा VIDEO

शिवपुरी। खबर शहर के कृषि उपज मंडी पिपरसमा में चल रही खरीदी केन्द्र से आ रही है। जहां आज रात्रि में नेफेड के अधिकारी ने चना में कचरा मिलाते हुए समिति प्रबंधक को पकडा है। इस मामले की शिकायत नेपेड के अधिकारी ने प्रभारी कलेक्टर एचपी वर्मा से की। जहां उन्होंने इस मामले में जांच के बाद कार्यवाही की बात कही है।

जानकारी के अनुसार कल से जिले में चना की खरीदी बंद हो गई। बीती रात्रि नेफेड कंपनी के प्रतिनिधि दीपक राजपूत को सूचना मिली कि क्रषि उपज मंडी शिवपुरी पिपरसमा में समिति प्रबंधक रात्रि के अंधेरे में तुले रखे हुए चने में कचरा मिला कर उसे पैक करवा रहा है। इस सूचना दीपक राजपूत रात्रि में पहुंचे और जाकर देखा तो वहां समिति प्रबंधक उपेन्द्र यादव कचरा मिला रहा था। इसकी वीडियों दीपक राजपूत ने अपने मोबाईल में बना ली।

कलेक्टर को दिए आवेदन में नेफेड के प्रतिनिधि ने बताया कि रात्रि में लगभग ढाई बजे किसान का पास किया हुआ माल रखा हुआ था। इस चने में समिति प्रबंधक खरीदी खत्म होने के बाद भी पास किए हुए माल में कचरा मिला रहा था। जिसे उन्होंने रंगे हाथों पकडा है। पकडे जाने केे बाद नेफेड के प्रतिनिधि ने उक्त माल का सेंपल भी लिया और वीडियों भी बनाया। उक्त वीडियों की सीडी बनाकर नेफेड के कर्मचारी ने कलेक्टर को दी। जहां कलेक्टर ने मामले में जांच के बाद कार्यवाही की बात कही।

सर्वेयरों को फसा कर चांदी काट रहे है समिति प्रबंधक

इस खरीदी के दौरान जो सबसे अहम बात सामने आई वह यह है कि जिले भर से आई खबरों में सबसे पहले सर्वेयर को कि इस खरीदी का सबसे कमजोर हिस्सा है उसे टार्गेट किया जा रहा है। लगातार आ रही खबरों में पूरा घपला समिति प्रबंधक करते है। जबकि उनकी जगह अधिकारी छोटे कर्मचारी सर्वेयरों को निशाना बनाते है।

ऐसा ही मामला कोलारस के श्रीजी वेयर हाउस में घटित हुआ। जहां सर्वेयर तो तोल बंध करारक वहां से चला गया। उसके बाद इस वेयर हाउस को प्रशासन ने सील कर दिया। सील होने के बाद प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए जांच रिपोर्ट बना दी। इस जांच रिपोर्ट में प्रशासन ने समिति प्रबंधक और वेयर हाउस के मालिक के तो वयान दर्ज कर लिए परंतु इस कडी के सवसे कमजोर कर्मचारी सर्वेयर के बयान लिए बिना ही उस पर एफर्आआर के आदेश जारी कर दिए। 

इस मामले में सबसे हैरान करने बाला यह पहलू सामने आया कि रात्रि में जब नेफेड की टीम वहां पहुंची तो समिति प्रबंधक उक्त कचरे को छनवाकर भरने की बात कहकर बचते नजर आए। परंतु जब टीम ने पूछा कि अगर आप छान रहे हो तो आपके पास चलना भी होगा। तो वह इधर उधर मूंह तांकने लगे। बताया गया है कि इस दौरान लगभग 50 किव्टल चने को ठिकाने लगाकर उसके स्थान पर कचरा भरने की प्रक्रिया चल रही थी। जिसमें लगभग 50 किब्टल अमानक कचरा वहां रखा हुआ मिला। 

इनका कहना है
रात्रि में हमें सूचना मिली थी। जिसपर हम वहां पहुंचे तो समिति प्रबंधक सरेआम चने में कचरी मिला रहा था। इसकी हमने वीडियों बनाई है। जिसे हम अपने वरिष्ठ अधिकारीयों सहित कलेक्टर के पास भेज रहे है। यह पूरा घटनाक्रम सर्वेयर की अनुपस्थिति में हुआ। इसकी हम शिकायत भी कर चुके है।
दीपक राजपूत,प्रतिनिधि नेफेड संस्था

हम रात्रि में लेवर नहीं होने के चलते चने को साफ करा रहे थे। कचरा मिलाने की बात निराधार है। हम कचरा क्यों मिलाएगें।
उपेन्द्र यादव,समिति प्रबंधक