Ads 720 x 90

दस्तक अभियान:​ घर-घर जाकर स्वास्थ्य कर्मी करेंगे बच्चे का परीक्षण, 210 दल उतारे धरातल पर | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। जिले में शिशु मृत्युदर और बाल मृत्युदर में कमी लाने के लिए दस्तक अभियान 10 जून से प्रारंभ किया जा रहा है। यह अभियान 20 जुलाई तक चलेगा। दस्तक अभियान से पहले सोमवार को कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में CMHO डॉ AL शर्मा ने बताया कि पहले चरण के तहत दस्तक अभियान में 2 लाख 49 हजार 817 बच्चों का घर-घर जाकर परीक्षण किया जाएगा।

दस्तक अभियान के दौरान अभियान में एएनएम आशा कार्यकर्ता एवं आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से जन्म से 5 साल तक के बच्चों का परीक्षण कर 7 तरह की गतिविधियां संचालित की जाएंगी। जिसमें बीमार, नवजात बच्चों की पहचान करना, पांच साल से कम उम्र के बच्चों में निमोनिया की पहचान कर जांच एवं इलाज के लिए रेफर करना, कुपोषित बच्चों की पहचान करना, बच्चों में गंभीर एनिमिया होने पर इसको दूर करना, बच्चों में दस्त रोग पर नियंत्रण के लिए ओआरएस के पैकेट एवं जिंक की गोलिया गृह भेंट के दौरान देना। 

वहीं 9 माह से 5 साल तक के बच्चों को विटामिन-'ए' की खुराक देना। जन्मजात विकृतियों की पहचान करना। समुचित शिशु एवं बाल आहार पूर्ति हेतु समझाइश देना। टीकाकरण से छूटे बच्चों को टीकाकरण की जानकारी दी जाएगी।

अभियान को धरातल पर उतारने 210 दलों का गठन
अभियान को धरातल पर उतारने के लिए 210 दलों का गठन किया है। प्रभारी कलेक्टर एचपी वर्मा ने कहा कि दस्तक अभियान साल में 2 बार चलने वाला अभियान है। साल 2019 का यह पहला अभियान है। इस अभियान के महत्व को समझें और इसे गंभीरता से लें। अभियान के क्रियान्वयन में महिला एवं बाल विकास के मैदानी कर्मचारियों की अहम भूमिका है।

भ्रमण के बाद शाम को स्वास्थ्य ग्राम सभाएं होंगी
इस अभियान के माध्यम से शिशु दर एवं बाल मृत्युदर में कमी लाना है। साथ ही संस्थागत प्रसव और प्रसव उपरांत स्तनपान को बढ़ावा देना है। दस्तक दल द्वारा भ्रमण के बाद शाम को स्वास्थ्य ग्राम सभा का आयोजन करेंगे। जिसमें स्थानीय जनप्रतिनिधियों को भी बुलाया जाएगा। ग्रामीणों को जागरुकत किया जाएगा।