Badarwas News- गाय ओर बकरिया चराने के विवाद में कल्ला को मारकर पेड़ से लटका दिया, हत्या का मामला दर्ज

संजीव जाट बदरवास।
बदरवास थाना क्षेत्र के ग्राम रेंजागढ़ में रहने वाले ग्रामीण की जंगल में पेड़ से लटकी मिली लाश के मामले में बुधवार को पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर लिया। ज्ञात रहे कि मृतक दस दिन से गायब था और जंगल में लाश मिलने के बाद परिजन ने हत्या का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज न होने तक शव को अंतिम संस्कार नहीं किया था।

बदरवास थाने में फरियादी पप्पू पुत्र राम सिंह यादव निवासी ग्राम रेंजागढ ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि मेरा भाई कल्ला यादव 7 जनवरी की सुबह जंगल में गाय चराने गया था। जंगल में गांव के ही माखन गड़रिया, देवीलाल गड़रिया, नेपाल गड़रिया भी बकरियां चराने ले गए थे। बकरिया व गाय चराने की जगह को लेकर कल्ला यादव से उनका झगडा हो गया था तथा उक्त लोगों ने मेरे भाई कल्ला की मारपीट कर दी थी। कल्ला ने अपने साथ हुई मारपीट के बारे में परिवारजन सचिन यादव व बहिन बालकुवर को बताया था।

दूसरे दिन कल्ला गाय चराने गया और वापस नहीं आया तो पप्पू उसे मुडी टोरिया के जंगल में देखने जा रहा था, तभी रास्ते मे उसे ग्राम बड़ीघुरवार के शैतान गड़रिया, रामचरण गडरिया एवं हरिसिंह गड़रिया मिले और उनसे मैंने कल्ला के बारे मे पूछा तो वे बोले की हमने खा लिया, तू क्या करेगा। उसके बाद पप्पू अपने घर वापस आ गया था। 17 जनवरी को मैं अपने भाई कल्ला को ढूंढता हुआ मुडी टोरिया जंगल में पहुंचा तो वहां करधई के पेड़ पर कल्ला का शव लटका था।

पप्पू का आरोप है कि माखन गड़रिया देवीलाल, नेपाल गड़रिया निवासीगण गढरेंजा, शैतान गड़रिया, रामचरण गड़रिया, हरि सिंह गड़रिया निवासीगण ग्राम बड़ी घुरवार ने हत्या कर लाश को पेड़ से लटका दिया है। पुलिस ने पप्पू की रिपोर्ट पर उक्त सभी आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया।

PM के बाद नहीं लिया था शव

मृतक कल्ला यादव का शव मंगलवार को ही मिल गया था तथा उसके शव का पीएम भी हो गया था। लेकिन परिवार जन उसके शव को अंतिम संस्कार के लिए नहीं ले जा रहे थे। उनकी मांग थी कि पहले मामला दर्ज किया जाए, तब हम शव का अंतिम संस्कार करेंगे। बुधवार को जब पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर लिया, तब परिवार जन शव को अंतिम संस्कार के लिए ले गए।