करैरा में जमीन के लिए अपने ही 3 भाइयों को मृत घोषित किया, पटवारी ने दिया साथ - karera News

शिवपुरी।
खबर आज मंगलवार को कलेक्ट्रेट में आयोजित जनसुनवाई कार्यक्रम से आ रही हैं। कलेक्टर शिवपुरी के पास आज फिर एक कागजो में मरा हुआ व्यक्ति अपनी व्यथा लेकर पहुंचा। आवेदन के अनुसार उसके भाई ने पुश्तैनी जमीन के लिए अपने 3 जिंदा भाइयों को कागजों में मरा घोषित उनके हिस्से की जमीन अपने नाम करा ली। इस काम में पटवारी ने उसका साथ दिया है। अब इस आवेदन को जांच के लिए करैरा एसडीएम के लिए ट्रांसफर किया गया हैं

जनसुनवाई में कागज में मर चुके इमरत सिंह गुर्जर उम्र 40 साल पुत्र महराज सिंह गुर्जर जनसुनवाई में पहुचा। इमरत ने बताया कि वह करैरा तहसील के अंतर्गत आने वाले गांव सिलानगर का रहने वाला है। इमरत के पिता महाराज सिंह ने अपने पांच बेटे गजराज सिंह, रणवीर सिंह, कप्तान सिंह, हाकिम सिंह एवं इमरत सिंह गुर्जर के नाम अपनी पुश्तैनी जमीन जिसका सर्वे क्रमांक 182/1 जिसका रकबा 2 हेक्टेयर को अपने बेटों के नाम करा दी थी।

इमरत के अनुसार हम पांच भाइयों में से कप्तान सिंह की मौत 2012 में कैंसर बीमारी के कारण हो गई थी कप्तान अविवाहित था। अब हम जिंदा बचे 4 भाइयो में रणवीर सिंह ने पटवारी और तहसीलदार से मिलकर हम 3 भाई गजराज सिंह,रणवीर सिंह और में इमरत सिंह का फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाकर इस जमीन को अपने नाम करा ली। जब हम 3 भाई जिंदा है तो इस जमीन का फौती नामांतरण रणवीर सिंह के नाम कैसे हो गया।

इमरत सिंह ने अपने आवेदन के द्वारा कलेक्टर महोदय से निवेदन किया है कि उक्त नामांतरण को निरस्त करने का आदेश देते हुए उक्त आरोपी रणवीर सिंह गुर्जर पुत्र महाराज सिंह गुर्जर के विरूद्ध उचित वैधानिक एवं दण्डात्मक कार्यवाही किये जाने का आदेश देने की कृपा करें।