Shivpuri News- 3 साल से निर्वाचन में मस्त शिक्षक स्कूल की चौखट पर नहीं आया, वेतन मिलता रहा

शिवपुरी।
शासन स्तर से भले ही सभी विभागों में अटैचमेंट समाप्त कर शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यों से हटाने का दावा किया जा रहा हो लेकिन जिले में हकीकत ठीक इसके विपरीत है। यहां शिक्षा महकमे में पदस्थ जिन शिक्षकों को अपने मूल संस्था में पढ़ा कर बच्चों का भविष्य संवारना चाहिए था वही शिक्षक निर्वाचन और एसडीएम दफ्तर जैसी जगह पर अटैच होकर शासन के नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।

ऐसा ही मामला गुरुवार को शिक्षा महकमे के योजना अधिकारी रोहिणी अवस्थी के औचक निरीक्षण के दौरान सामने आया जब पोहरी ब्लाक के एकीकृत माध्यमिक विद्यालय परीच्छा में प्रभारी हेडमास्टर रत्ना सोनी बगैर सूचना के 25 दिन से गायब थी। वहीं अन्य माध्यमिक शिक्षक अनुराग द्विवेदी भी ढाई साल से विद्यालय से नदारद मिले। 

इस संबंध में स्टाफ का कहना था कि अनुराग निर्वाचन कार्यालय पोहरी में अटैच है। इस पर योजना अधिकारी ने दोनों को गैरहाजिर मानते हुए एससीएन जारी कर वेतन काटने की कार्रवाई की है।

योजना अधिकारी रोहिणी अवस्थी के पोहरी ब्लॉक के निरीक्षण के दौरान गुरुवार को अंकुर अभियान की मॉनिटरिंग करने निकिता तांबरेकर भी पहुंची थी। इस दौरान सबसे पहले हाईस्कूल परीच्छा का औचक निरीक्षण किया गया हाईस्कूल में तो समूचा स्टाफ मौजूद था और विधिवत कक्षाएं लग रही थी लेकिन एकीकृत माध्यमिक विद्यालय परीच्छा में प्रभारी हेडमास्टर रत्ना सोनी का 11 जुलाई से कोई अता.पता नहीं था वही माध्यमिक शिक्षक अनुराग द्विवेदी भी नवंबर 2019 से नदारद पाए गए जिनको निर्वाचन कार्यालय में अटैचमेंट का कोई भी आदेश मौके पर नहीं मिला

वही माध्यमिक विद्यालय बीलारा विधिवत रूप से संचालित मिला पर प्राथमिक विद्यालय बीलारा व हाजीखेड़ी में मध्यान्ह भोजन मीनू अनुरूप नहीं मिला। फिलहाल योजना अधिकारी ने सभी को नोटिस जारी कर वेतन काटने की कार्रवाई की है।