मुक्त हुए करैरा सौनचिरैया अभ्यारण्य के 32 गांव, किसान खुश बज सकेगी परिवारों में शहनाई- karera News

शिवपुरी। करैरा विधानसभा में स्थित सोनचिरैया अभ्यारण से 32 गांव मुक्त हो चुके है। करैरा और घाटीगांव के डी नोटिफिकेशन के 9 साल से लटके प्रस्ताव प्रदेश मंत्रिमंडल ने मंगलवार को स्वीकृति दे दी है। सोनचिरैया अभ्यारण करैरा अभयारण्य की 202X12 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र की भूमि अभयारण्य से मुक्त हो जाएगी। यह भूमि राज्य शासन कूनो अभयारण्य श्योपुर को देगा, जिससे अभयारण्य की भूमि का हिस्सा बढ़ जाएगा।

करैरा अभयारण्य की सीमा में आने वाले गांवों के किसान इस फैसले से खुश है उनका सालो से चलना वाला सँघर्ष आज समाप्त हो जाऐगा। इस फैसले से आसपास के गांवों में विकास कार्य शुरू हो जाएंगे। इसके साथ ही यहां के गांवों में रहने वाले लोग अपनी जमीन बेच सकेंगे।

मई 1981 में बने अभयारण्य के कारण क्षेत्र में रहने वाले लोग परेशान थे। डी.नोटिफिकेशन की लंबे समय से जनता मांग कर रही थी। इस फैसले का गजट नोटिकिकेशन भी जारी हो चुका है।

इस अभयारण्य के कारण 32 ग्राम पंचायतों के किसान परेशान है। सोन चिरैया वर्षो से नही दिखी है और अब विलुप्त मानी जाती है। अभ्यारण्य क्षेत्र में कई प्रतिबंध लागू होते हैं जो परेशानी की वजह बन रहे हैं।

जमीनों की खरीद फरोख्त पर रोक सड़को पर रोक, सहित अनेको प्रतिबंधों के चलते किसान परेशान था इस कारण इन गांवों के युवाओं की शादियों में भी परेशानी होती थी,कुंवारों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा था। किसान लगातार इस अभ्यारण्य को खत्म करने की मांग कर रहे थे,और आंदोलन भी कर रहे थे।