पिता के मरने के बाद 11 वर्षीय बिटिया पूरा करना चाहती है डॉ. बनने का सपना,कलेक्टर से लगाई गुहार - Shivpuri News

शिवपुरी।
आज मंगलवार को जिला कलेक्टर कार्यालय में पहुंची एक 11 वर्षीय मीनाक्षी के हौसले को देखकर हर कोई दंग रह गया। 11 वर्षीय मासूम ने कलेक्टर से के सामने अपनी बात पूरे हौसले के साथ रखते हुए कहा कि उसके पिता की मौत हो गई है। उसके पिता मरने से पहले उससे डॉक्टर बनने का बादा लेकर गए है। अब वह अपने पिता के इस सपने को हर हाल में पूरा करना चाहती है। परंतु पिता की मौत के बाद पढाई में आर्थिक रूप से कई परेशानियां आ रही है। जिसके चलते उन सभी परेशानियों के हल के लिए मासूम कलेक्टर की चौखट पर पहुंची।

जानकारी के अनुसार आज शिवपुरी कलेक्टर सभागार में आयोजित जनसुनवाई में एक 11 वर्षीय बालिका मीनाक्षी तिवारी पुत्री संतोष तिवारी निवासी ग्राम बुढोन तहसील पिछोर जिला शिवपुरी अपनी फरियाद लेकर पहुंची। बालिका ने मार्मिक गुहार लगाते हुए कलेक्टर को एक आवेदन देते हुए कहा कि उसके पिता की मौत कैंसर के चलते हो गई थी। उसकी एक बड़ी बहन और एक छोटी बहन भी है। उसकी मां अब खेती किसानी की कमान संभाल कर जैसे तैसे दो वक्त की रोटी की व्यवस्था कर पा रही है। इससे पहले जो भी घर में जुड़ा हुआ पैसा था वह पिता के इलाज में लग गया।

उसके बाद उनकी मौत हो गई। उसके पिता संतोष तिवारी मरने से पहले उससे डॉक्टर बनने का वादा लेकर गए थे और अब हर हाल में अपने पिता का सपना साकार करना चाहती है लेकिन घर की माली हालत खराब होने के चलते वह इसी उम्र से पढ़ाई में लगना चाहती है और आगे चल के डॉक्टर बनकर अपने पिता का सपना साकार करना चाहती है।

लेकिन मां इतनी सक्षम नहीं है कि वह इतना पैसा पढ़ाई में खर्च कर सके और उसे किसी अच्छे स्कूल में दाखिला दिला सके। यहीं वजह है कि वह सरकार से मदद चाहती है कि उसे किसी अच्छे स्कूल में भर्ती कराया जाए इसके साथ ही उसके रहने खाने और पढ़ाई की व्यवस्था सरकार के द्वारा की जाए। जिससे वे भविष्य में डॉक्टर बनकर अपने पिता और अपने शहर का नाम रोशन कर सकें।