बड़ी खबर: BMO से त्रस्त CHO ने खाई गोलियां! मामले को दबाने में जुटा स्वास्थ्य विभाग - Shivpuri News

कोलारस। खबर जिले केे कोलारस थाना क्षेत्र के उप स्वास्थ्य केन्द्र माढा गणेशखेडा से आ रही है। जहां पदस्थ एक महिला सीएचओं ने अपने ही बीएमओ से त्रस्त आकर एक्सपायर दबाईयों का सेवन कर लिया। जिससे सीएचओं की हालात बिगडने लगी। तत्काल उसे उपचार के लिए कोलारस उपस्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया है। जहां बीएमओं के बेटे की ड्यूटी होने के चलते अब इस मामले को रफा दफा करने का प्रयास जारी है।

जानकारी के अनुसार एकता दंतोरिया निवासी उप स्वास्थ्य केन्द्र माढा गणेशखेडा मूल निवासी ग्वालियर ने आज अज्ञात कारणों के चलते अपने पास रखी एक्सपायरी दबाईयों का सेवन कर लिया। जिससे उसकी हालत बिगड़ने लगी। तत्काल उसे उपचार के लिए कोलारस उप स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है। जहां महिला का उपचार जारी है।

सूत्रों की मानें तो एकता दंतोरिया बीते लंबे समय से बीएमओं शर्मा से परेशान है। और इसी के चलते आज उसने यह कदम उठाया। परंतु इस कदम के बाद उसकी हालात बिगड़ी तो उसे उपचार के लिए कोलारस उप स्वास्थ्य केन्द्र पर लाया गया। जहां बीएमओं के बेटे डॉ विवेक शर्मा पदस्थ है। उन्होंने इस महिला को देखा और पूरा उपचार मुहिया कराया।

बताया गया है कि यहां पदस्थ डॉॅ विवेक शर्मा ने सीएचओं को अच्छी तरह से मैनेज कर लिया और पूरे समय उसे आफ ड्यूटी देखते रहे। जिसके चलते उसे मीडिया से भी नहीं मिलने दिया गया। अब सीएचओ ने यह कदम क्यों उठाया है यह तो जांच के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा। हांलाकि स्वास्थ्य विभाग की तरफ से खबर लिखे जाने तक पुलिस को कोई सूचना नहीं दी गई है। बताया गया है कि कुछ दिनों पर एकता की शादी भी है।

इनका कहना है।
यह मामला मेरी जानकारी में तो नही है। उसने क्या और कब खाया मुझे तो नहीं पता,वह रहती कोलारस में है जबकि पदस्थ हमारे यहां माढा गणेशखेडा में है। अब मेरी तो उससे बात हीं नहीं हुई तो मुझे तो कोई जानकारी भी नहीं है। हां मेरा बेटा विवेक जरूर कोलारस में पदस्थ है।
डॉ एच बी शर्मा,बीएमओं बदरवास

आज शाम लगभग चार बजे के करीब महिला स्वास्थ्य कर्मी एकता को गंभीर हालत में उसके सहयोगियों द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कोलारस लाया गया था। जहां मैंने उनका उपचार किया, अब हालात स्थिर है। एकता के परिजनों को सूचित कर दिया है। अब बात पुलिस की तो उसके ससुर पुलिस में ही है। और रही बात प्रेसर की तो नौकरी में प्रेसर तो होता ही है इसके लिए अपन यह तो नहीं कह सकते। अब उसके परिजन कोई भी शिकायत करने तैयार नहीं है।
डॉ विवेक शर्मा,कोलारस उप स्वास्थ्य केन्द्र