अब रेलवे के एनाउंस में जुड गई नई रेलवेटोन: बाल मजदूरी, बाल विवाह एवं वेश्यावृत्ति रोकने में मिलेगी मदद- Shivpuri News

शिवपुरी। बच्चे देश की सर्वोच्च प्राथमिकता हैं बच्चो को मुसीबत से बचाने के लिए देश का सबसे बडा विभाग रेलवे विभाग ने अपनी रेलवे टोन बदल दी है। अभी आपको रेलवे स्टेशन पर यह सुना है कि यात्रीगण कृपया ध्यान दे,ग्वालियर से चलने वाली ट्रेन शिवुपरी के प्लेटफॉर्म नंबर 1 पर पहुंच रही है। अब आपको रेलवे की नई रेलवे टॉन यह भी सुनाई देगी.......

यात्रीगण ध्यान दे,रेलगाडी परिसर या रेलगाडी के अंदर आपको 18 वर्ष से कम उम्र का ऐसा बच्चा दिखाई दे रहा है जो परेशान हैं,गुमशुम बैठा हैं,घायल है,जख्मी है,आपको अकेला दिखाई दे रहा हैं या उसे कोई जबजस्ती ले जा रहा हैं। उसकी मदद किजिए चाईल्ड हैल्पलाईन नंबर 1098 पर सूचना अवश्य दे आपका यह छोटा सा प्रयास उस बचचे को बडी मुसीबत से बचा सकता हैं,याद रखे बच्चे हमारे देश की सर्वोच्च प्राथमिकता है। रेलवे स्टेशन प्रवंधन द्वारा बच्चों को सुरक्षित रखने तथा जोखिमों से बचाने के लिए इस उद्घोषणा की शुरुआत की गई है।

गत माह रेलवे चाइल्ड प्रोटेक्शन कमेटी (आरसीपीसी) की बैठक में बाल तस्करी की रोकथाम को लेकर 1098 के एनाउंसमेंट का निर्णय लिया गया था। यात्रा के दौरान बच्चों को सुरक्षित एवं चाइल्ड फ्रेंडली माहौल उपलब्ध कराने के लिए हर स्टेशन पर समिति गठित है।

बच्चों की सुरक्षा बढ़ेगी

जानकारों का कहना है कि बाल मजदूरी,बाल विवाह एवं वेश्यावृत्ति जैसे कामों के लिए तस्करों का गिरोह बच्चों को रेलगाड़ियों के माध्यम से ही अन्य राज्यों में ले जाता है। जिला प्रशासन एवं रेल प्रवंधन का यह प्रयास निश्चित ही इन अपराधों पर अंकुश लगाने और बच्चों के संरक्षण में मील का पत्थर सावित होगा।

स्टेशन प्रबंधक रामस्वरूप मीणा ने बताया कि रेलगाड़ियों का सफर बच्चों के लिए सुरक्षित हो, बाल तस्करी जैसी घटनाओं पर रोक लगे, इसके लिए चाइल्ड लाइन नंबर की उद्घोषणा का निर्णय लिया गया था। उसी क्रम में स्टेशन पर उद्घोषणा शुरू की गई है। इससे यात्री जागरूक होंगे तथा मुश्किल हालातों में फंसे बच्चों की मदद कर सकेंगे। यह प्रयास बच्चों को असुरक्षित परिस्थितियों से बाहर निकालने में सहायक होगा।

रेलवे के सीनियर सेक्सन इंजीनियर (टेलीकॉम) दशरथ लाल ने बताया कि घर से भागे या परेशानी में फंसे बच्चों को पहचानकर सहयात्री उनकी मदद कर सकें,इसके लिए चाइल्ड लाइन नंबर 1098 की उद्घोषणा शुरू की गई है। स्टेशन पर ट्रेन आने के बाद 2-3 बार उसे प्ले किया जा रहा है।

यात्रीगण कृपया ध्यान दें

बच्चे देश की सर्वोच्च संपदा है और उनकी सुरक्षा हम सभी का कर्तव्य है...अगर वह जोखिम में दिखें तो 1098 पर सूचित करें। रेल प्रबंधन द्वारा जारी इस अपील को जिले के बाल संरक्षण अधिकारी राघवेंद्र शर्मा की अपनी आवाज में रिकॉर्ड किया गया है।

फासला कम होगा

स्टेशन पर चाइल्ड लाइन नंबर 1098 का एनाउंसमेंट कराने का रेल बाल सुरक्षा समिति की बैठक में निर्णय लिया गया था,ताकि स्टेशन एवं रेलगाड़ी में मौजूद यात्रीगण विपरीत परिस्थितियों में फंसे बच्चों का सहारा बन सकें। रेल प्रवंधन का यह नवाचार मुशीबत में फंसे बच्चों और सुरक्षा तंत्र के बीच की दूरी को कम करने में सहायक होगा।
राघवेंद्र शर्मा, बाल संरक्षण अधिकारी एवं सदस्य-रेल बाल सुरक्षा समिति, शिवपुरी