लुटेरे विभाग के आंतक के कारण ग्रामीण बैठे भूख हडताल पर, 10 घंटे कृषि, 21 घंटे आबादी को मिलेंगी बिजली- karera News

करैरा। मप्र की सरकरी लूटेरा विभाग के आंतक के कारण ग्रामीण अब इसके आंतक से निजात पाने के लिए गांधीवादी हथियार का सहारा लिया। करैरा के आदर्श ग्राम सिरसौद के ग्रामीण बिजली विभाग द्धवारा लगातार दिए जा अकलित बिल सहित अघोषित कटौती से परेशान ग्रामीणो ने गांव के एक वृक्ष के नीचे टेंट लगाकर रविवार सुबह सरपंच पति के अतर सिंह लोधी के साथ भूख हडताल शुरू कर दी। जो दोपहर 3:00 बजे तक चली। इसमें ग्रामीणों ने बिजली कंपनी के जेई हरि ओमशंकर यादव को हटाने, आकलित बिलों को दुरुस्त करने व कटौती बंद करने की मांग करते हुए बिजली कंपनी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

गौरतलब है कि अनिश्चितकालीन हड़ताल की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय विधायक सहित आसपास के 6 से अधिक गांवों के ग्रामीणों ने भूख हड़ताल का समर्थन किया। इसके बाद मौके पर पहुंचे बिजली कंपनी के एई इंद्रपाल सिंह बघेल ने ग्रामीणों को केला खिलाकर उन्हें समस्याओं का समाधान करने की बात कहकर भूख हड़ताल को समाप्त करा दिया है। साथ ही ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि आश्वासन अनुसार समाधान नहीं हुआ तो हम आगे किस प्रकार की अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल व आंदोलन करेंगे।

जेई को हटाने, अंकित खपत बिल न देकर कटौती बंद करने की रखी मांग

आदर्श ग्राम सिरसौद में विगत लंबे समय से की जा रही बिजली कटौती और मनमाने बिलों के विरोध में अंतरसिंह लोधी सहित एक सैकड़ा ग्रामीणों समस्याओं को लेकर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की उन्होंने धरने-प्रदर्शन में नारों के साथ खेराघाट कनिष्ठ यंत्री हरि ओमशंकर यादव को खेराघाट से हटाने की मांग भी की।

वही अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल की खबर अंचल के गांवों में फैली तो मामला तूल पकड़ गया और बिजली की समस्याओं से जूझ रहे गांवों की महिलाएं व पुरूषों भी भूख हड़ताल में शामिल होने लगे। वहीं भूख हड़ताल स्थल पर क्षेत्रीय विधायक प्रागीलाल जाटव ने भी इसे विपक्ष की साजिश बताते हुए 15 मिनट विपक्ष पर निशाना साधा।

पूर्व में भी विवादों में रहे हैं कनिष्ठ यंत्री यादव

बिजली कंपनी के जेई हरिओम शंकर यादव की बात करें तो ये वर्ष 2016 में शिकायतों के चलते मगरौनी से करैरा टाउन में स्थानांतरण हुआ था। यहां भी शिकायतों के बाद खेराघाट डीसी में स्थानांतरण हुआ। वर्ष 2019 नम्बर में शिकायतों के चलते भौंती के खोड में स्थानांतरण किया गया। सूत्रों की माने तो राजनीतिक आशीर्वाद मिलने से वर्ष जून 2020 में भौंती से फिर खेराखाट स्थानांतरण हुआ। अब यहां भी इन की लगातार शिकायत मिलने के बाद भी जिम्मेदार अधिकारी इनके खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।

10 घंटे कृषि, 21 घंटे आबादी में विद्युत सप्लाई का दिया आश्वासन

रविवार सुबह 9 बजे से शुरू की गई भूख हड़ताल स्थल पर दोपहर तीन बजे सहायक यंत्री इंद्रपाल बघेल पुलिस बल के साथ पहुंचे। जहां भूख हड़ताल पर बैठे अंतरसिंह लोधी सहित अन्य ग्रामीणों ने बिजली कटौती, संकलित खपत व अन्य मांगों के साथ खेराघाट कनिष्ठ यंत्री हरि ओमशंकर यादव को हटाने का प्रस्ताव सहायक यंत्री को अवगत कराया।

भूख हड़ताल पर बैठे लोगों की समस्याओं को सुनने के बाद सहायक यंत्री ने किसानों और जनता की समाधान के लिए एक सैकड़ा जनता के बीचों-बीच पंप विद्युत सप्लाई 9 से 10 घंटे और आबादी क्षेत्र में 21 घंटे विद्युत सप्लाई देने की बात कही। सहायक यंत्री के इस निर्देश के भूख हड़ताल में बैठे लोगों ने विधिवत वीडियो बनाया। करीब 6 घंटे से भूख हड़ताल पर बैठे सरपंच पति अंतरसिंह लोधी व क्षेत्रीय जनता मानी और उसके बाद पानी व अकेला खिलाकर भूख हड़ताल का समापन किया