दो साल के बाद फिर लौटी रौनक, घर घर में विराजे श्रीजी, मोहल्लों में सजे पंडाल- Shivpuri News

शिवपुरी। इस बार गणेश चर्तुथी के अवसर पर उत्साह देखने को मिला है। विगत वर्ष कोरोना के कारण गणेश चर्तुथी का उत्साह फीका-फीका मना था। कोई सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं हुआ और गणेश समारोह का आयोजन भी नहीं हुआ था। लेकिन इस बार आज से शहर में फिर वहीं रौनक देखने को मिली, जो दो वर्ष पहले गणेश महोत्सव के दौरान देखी जाती थी।

आज गणेश चतुर्थी पर गणेश महोत्सव के शुरू होने के साथ ही घर-घर श्रीजी का प्रवेश हुआ और हर कोई भगवान गणेश के स्वागत के लिए पूरे भक्तिभाव से जुट गया। गली मोहल्लों में जहां श्रीजी के विग्रह को स्थापित करने के लिए पांडाल सजाए गए हैं। वहीं बाजारों में श्रीजी के विमान निकाले जा रहे हैं। हालांकि कोविड गाइडलाइन के चलते लोग सुरक्षा के भी इंतजाम कर रहे हैं। मास्क लगाने के साथ-साथ सेनिटाईजर और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए जगह-जगह पुलिस खड़ी हुई है, जो लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ ट्रेफिक व्यवस्था भी संभाल रही है।

शुक्रवार को प्रात:काल से ही शुभ मुर्हुतों में गणेश स्थापना शुरू हो गई। रवि योग सुबह 6 बजकर 1 मिनिट से दोपहर 12:58 तक घरों में श्रीजी की स्थापना की गबई। वहीं अमृतकाल का योग भी प्रात:काल बना। जिसका रवि योग के साथ सुबह 6 बजकर 58 मिनिट से 8 बजकर 28 मिनिट तक रहा। अभिजीत मुर्हुत सुबह साढ़े 11 बजे से दोपहर 12:20 तक रहा। इन मुर्हुतों में कलश स्थापना की गई और भगवान गणेश की आराधना शुरू हुई। गौधूली मुर्हुत शाम 5:55 से 6:19 तक रहेगा।

इस दौरान पांडालों में भगवान गणेश के विग्रह स्थापित होंगे और वहां कलश स्थापना की जाएगी। इसके साथ ही 10 दिनों का गणेश महोत्सव शुरू होगा। जिसका समापन अनंत चौदस को श्रीजी के बिहार के साथ ही सम्पन्न होगा। मध्यान्ह गणेश पूजा मुर्हुत प्रात: 11:03 बजे से दोपहर 1:32 तक रहा। इस दौरान भी भगवान गणेश की प्रतिमाएं स्थापित की गई। इन संयोग में श्रीजी की स्थापना करना सुख समृद्धि और सौभाग्य देने वाला साबित होगा।

वन-वे के कारण पुराना बस स्टेंड से फिजीकल रोड़ जाने वाले लोग हुए परेशान

भगवान गणेश के विमान निकलने के चलते यातायात पुलिस ने पुराने बस स्टेंड से फिजीकल रोड के रास्ते को वन-वे करने का निर्णय लिया है। जिस कारण आज सुबह से ही उस क्षेत्र में जाने वाले वाहन चालकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

उन्हें अपने घरों और प्रतिष्ठानों तक पहुंचने के लिए दो बत्ती चौराहा से घुमकर वहां जाना पड़ा। फिजीकल रोड़ पर शोभायात्रा की तैयारियों और भगवान गणेश की मूर्तियों मूर्तिकारों के यहां से उठाकर पांडालों तक लाने के लिए वहां वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लगीं रहीं। गणेश प्रतिमाएं ले जाने के लिए ट्रेक्टर ट्रॉली के साथ-साथ ऑटो, कार और लोडिंग वाहनों से जाम की स्थिति निर्मित हो गई।