यह है ग्रामीण विकास: 3 किलोमीटर की सड़क में 300 गड्डे, यहां रोड में गड्ढे नहीं बल्कि गड्ढे में रोड है- Badarwas News

बदरवास। वैसे तो शिवपुरी में हुई भारी वारिश ने शिवपुरी में विकास की पोल खोल दी है। हालात यह है कि यहां नवनिर्मित फोरलाईन भी भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई। इसके साथ ही गांवों को सड़कों से जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री सड़क योजना शुरु हुई थी। देश के कई गांव इस योजना के अंतर्गत सड़क से भी जुड़े लेकिन कई जगहों पर सड़क निर्माण में लापरवाही और भ्रष्टाचार की शिकायतें भी सामने आईं।

ऐसा ही एक मामला सामने आया है शिवपुरी के बदरवास के रिजोदी गांव से। हाइवे से महज 3 किमी. पर बसे रिजोदी गांव को हाइवे से जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री सड़क योजना के अंतर्गत 2016 में सड़क का निर्माण कराया गया था लेकिन आज इस सड़क के जो हाल हैं उसे देखकर यही कहा जा सकता है कि दावों और पांच साल की गारंटी महज बोर्ड पर लिखी हुई अच्छी लगती है।

इस प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के गारंटी महज 5 साल है, परन्तु हालात यह है कि 4 साल बीतते ही इस रोड़ की यह हालात हो गई कि इस समझना मुश्किल है कि सड़क में गड्डे है कि गड्डों में सड़क है । इस रोड़ पर लगभग 3 किलो मीटर के दायरे में लगभग 300 से ज्यादा गड्डे है इस बात की शिकायत ग्रामीण कई बार अधिकारियों से कर चुके हैं। कोई सुनने को तैयार नहीं है।

इनका कहना है
यह जो आप मामला बता रहे हैं वह हमारे संज्ञान में है। दरअसल हुआ यह है कि फोरलाईन निर्माण के दौरान इस रोड़ से बड़े—बड़े डम्फरों द्वारा माल ढोया गया है जिसके चलते यह रोड़ छतिग्रस्त हो गया है। जिसके चलते हम एनएचएआईं को भी पत्र लिख चुके है। जिसमें एनएचएआई द्वारा महज 90 हजार रूपये स्वीकृत हुए है अब 90 हजार में इसकी रिपेयरिंग संभव नहीं है जिसके चलते हम पुन: पत्राचार कर रहे हैं जिससे जल्द—जल्द से कोई कम्पनी आये और इसका काम कर सके।
आरके शर्मा, महाप्रबंधक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना क्रमांक 1 शिवपुरी