कोरोना पर प्रचंड प्रहार:लोग इतने घर से निकले की वैक्सीन कम पड गई, फिर भी 149 ​अधिक वैक्सीनेशन

शिवपुरी। वैक्सीनेशन महाअभियान का आज दूसरा दिन था। प्रथम दिन के उत्साह में शिवपुरी जिले के इतने लोग घर से निकले की वैक्सीन ही कम पड गई। कई जगह दिन के 2 बजे ही वैक्सीन खत्म हो गई। इसके बाद भी जिले में 100 प्रतिशत से अधिक वैक्सीन के डोज लगे है।

टीकाकारण के लिए चलाए गए महाअभियान में दो दिन में जिले में रिकॉर्ड एक लाख से अधिक लोगों ने कोरोना का टीका लगवाया। दूसरे दिन भी जिले ने अपने लक्ष्य से अधिक 146 प्रतिशत अधिक लक्ष्य हासिल किया। पहले दिन जिला जहां पूरे प्रदेश में पहले स्थान पर था तो वहीं दूसरे दिन सीधे 22 वें स्थान पर पहुंच गया।

दूसरे दिन जिले में कुल 29104 डोज लगाए गए जिसमें 15452 फस्र्ट डोज और 13654 सेकंड डोज लगाए गए। दूसरे दिन अधिक से अधिक सेकंड डोज लगाने का लक्ष्य रखा गया था। इसमें कोवैक्सीन के फस्र्ट डोज और कोविशील्ड के सिर्फ सेकंड डोज लगने थे। लेकिन दोपहर होते-होते कई जगहों पर कोविशील्ड वैक्सीन ही खत्म हो गई। पहले महाअभियान में डोज की शॉर्टेज की समस्या आई थी। हालांकि किसी तरह जिले ने अपना 20 हजार का लक्ष्य जरूर पूरा कर लिया। कोलारस में तो एक व्यक्ति को गलत डोज भी लगा दिया गया।

कोवैक्सीन की जगह कोविशील्ड का लगा दिया दूसरा डोज
कोलारस नगर के मानीपुरा स्थित अंबेडकर पार्क वैक्सीनेशन सेंटर पर स्वास्थ विभाग की ब?ी लापहरवाही सामने आई। संदीप सिंह सिख निवासी बलेहरा ने बताया कि मैं अपनी सेकेंड डोज कोवैक्सीन का लगवाने आया था पर मेरे को कोविशील्ड वैक्सीन लगा दी। मेरे द्वारा फस्र्ट डोज का सर्टिफिकेट भी मांगा गया था मैंने वह भी दे दिया। जब मैने पूछा की मेरा मेसैज क्यों नहीं आया है तो वोले कि आपको तो कोविशील्ड लग गई है।

संदीप ने कहा कि कर्मचारियों को यह तक नहीं पता है कि किस व्यक्ति को कौन सा डोज लगाना है। संदीप ने कहा कि अब मुझे कुछ हो गया तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। वहीं इस मामले में सीएमएचओ डॉ. एएल शर्मा का कहना है कि कोलारस बीएमओ से बोला है। बीएमओ उसकी जांच कर रही है। एक व्यक्ति के दो अलग अलग वैक्सीन के डोज लगने के बाद शरीर मे अभी तक कोई साइड डिफेक्ट तो नही देखे गए है। एक महीने बाद युवक का एंटीबॉडी टेस्ट करा लेंगे।

सेकंड डोज की चुनौती अभी भी बरकरार
जिले में सेकंड डोज लगवाने वालों की संख्या काफी कम है। महाअभियान में भले ही एक लाख डोज लगा दिए गए हैं, लेकिन अभी भी सेकंड डोज की कम संख्या चिंता का विषय बनी हुई है। अब तक जिले में कुल 81601& लोगों को कोरोना का टीका लग चुका है जिसमें सिर्फ 11051& लोगों को ही सेकंड डोज लगा है। यह कुल आबादी का 10 फीसद भी नहीं है।