हेड कांस्टेबल ने छोडा है सुसाइड नोट: TI सहित दो SI और आरक्षक को बताया अपनी मौत का जिम्मेदार - Shivpuri News

शिवपुरी। बीती रात्रि शाम 7 बजे शिवपुरी के रेलवे स्टेशन पर हेड कांस्टेबल ने ग्वालियर-पुणे ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली हैं मृतक हेड कांस्टेबल ने एक सुसाइड नोट भी छोडा हैं जिसमें टीआई 2 एसआई सहित आरक्षक का अपनी मौत को दोषी बताया है। जानकारी मिल रही है कि आरक्षक की 4 दिन बाद बेटी की शादी थी।

पुलिस लाइन शिवपुरी में अटैच चल रहे प्रधान हेड कांस्टेबल महेंद्र सिंह चौहान उम्र 54 वर्ष पुत्र बुद्धसिंह निवासी उन्नाव बालाजी जिला दतिया व करैरा के पुलिस आवास में रहने वाले हवलदार महेन्द्र सिंह चौहान दोपहर से ही रेलवे स्टेशन पर घूमते देखे गए थे। शनिवार की शाम लगभग 7 बजे मुंबई-पूना ट्रेन के नीचे आकर अपनी जान दे दी।

बताया जा रहा है कि घटना से पूर्व महेन्द्र ने अपना मुंह व सिर एक कपडे से बांध लिया था और जैसे ही शिवपुरी रेलवे स्टेशन से जैसे ही ट्रेन चली,तो वह पटरी पर जाकर लेट गया और ट्रेन हवलदार के उपर से निकल गई जिससे सिर कटकर धड से अलग हो गया।

जीआरपी पुलिस ने शिनाख्त कर स्थानीय पुलिस को सूचना दी। आरआई भारत यादव मौके पर पहुंच गए। बाद में एसपी राजेश सिंह चंदेल भी आ गए थे। शव को पीएम के लिए भिजवाया गया।

सूचना मिलने पर करैरा से परिजन भी शिवपुरी आ गए। बाद में सुसाइड नोट का पता चला। जिसमें मृतक महेंद्र सिंह ने भौंती टीआई पूनम सिंह सविता सहित दो एसआई व एक आरक्षक का जिक्र किया है। एंट्री नहीं करने पर मेडिकल कराकर मुझ पर झूठा केस दर्ज कराया है। इसी से महेंद्र सिंह दु:खी चल रहे थे।

बेटी की शादी चार दिन बाद होनी थी
मृतक हेड कांस्टेबल की बेटी की 7 मई को शादी तय हो गई थी। कार्ड भी छप चुके थे। लेकिन कोरोना महामारी के चलते शादी कैंसल हो गई। अब चार दिन बाद फिर से शादी की तैयारी थी। बेटी की शादी से पहले ही प्रधान आरक्षक ने आत्महत्या कर ली। बेटे धर्मेंद्र सिंह चौहान ने भी भौंती टीआई व तीन अन्य पुलिस वालों को अपनी पिता की मौत का जिम्मेदार बताया है।

पटरी पर मिलने की वजह से मामले की जांच शिवपुरी जीआरपी थाना पुलिस कर रही है। रात 9 बजे जाकर लाश उठाई जा सकी। जीआरपी थाना प्रभारी कमलेश गौतम ने कंट्रोल रूम पर इस बात की शिकायत की।

दिसंबर में अटैच हुए, 5 अप्रैल से गैरहाजिर थे
मृतक प्रधान आरक्षक महेंद्र सिंह दिसंबर 2020 में पुलिस लाइन अटैच हुए थे। वर्दी में शराब पीने पर यह कार्रवाई हुई थी। मामले की जांच एसडीओपी द्वारा की गई थी। मेडिकल में भी शराब के नशे में होना पाया गया था। साथ ही 5 अप्रैल से गैर हाजिर चल रहे थे।
राजेश सिंह चंदेल,एसपी शिवपुरी