सहाब! सोसायटी के सचिव ने किसानों के नाम पर फर्जी लोन ले लिया,अब किसान कर्जदार बने बैठे है - narwar News

शिवपुरी। आज जनसुनवाई में आए किसानों ने सोसाईटी के सचिव और कर्ताधर्ताओं पर किसानों के नाम पर फर्जी लोन ले निकाल लिया। इस मामले का किसानों को उस समय पता चला जब कमलनाथ सरकार की फसल ऋण माफी में किसानों के नाम पर लोन सामने आया।

आज कलेक्टर कार्यालय में आए नरवर क्षेत्र के लगभग आधा सैंकडा किसानों ने कलेक्टर को आवेदन देते हुए बताया कि किसानों के जय किसान फसल ऋण माफी योजना 2018-19 के राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा वित्तीय वर्ष 2018-19 को जय किसान फसल ऋण माफी योजना के अंतर्गत जो उपरोक्त ग्रामों के किसानों की ऋण माफी सूची जारी की गई थी उसके अनुसार कम से कम 70ः से लेकर 80ः तक ऐसे किसान है जिनकी कर्ज माफी 1 लाख से 2 लाख तक दिखाई गई है। ।

किसी किसी किसान की ऋण माफी 2 लाख भी अधिक दिखाई गई है किसानों आरोप है कि इतनी राशि का ना तो हमने खाद लिया है और ना कोई ऋण लिया है। ऋण माफी की लिस्ट में ऋण माफी के बहुत से ऐसे नाम है जिनका ऋण माफ भी हो चुका है जिसका हमारे पास कोई भी प्रमाण नहीं है कि कितनी
ऋण राशि हमारे नाम से थी तथा इसमें से कितनी राशि हमारी माफ हो चुकी है ताकि हम अपनी - की पासबुक तथा हमारे पास जो भी खाद की खरीदी एवं भुगतान के बिल है।

उनके आधार किसानों ने सोसायटी को नगद भुगतान तथा हमने जो सोसाइटी की फसल की बिक्री की थी उसने से भी बहुत किसानों की ऋण की कटौती की है। इस मामले की शिकायत किसान तब से ही लगातार कर रहे है। परंतु हर बार जिम्मेदार जांच टीम बनाकर मामले की बारीकी से जांच कराने की बात कह रहे है। परंतु हालात यह है कि आज दिनांक तक जिम्मेदारों पर कोई कार्यवाही नहीं हुई है। और किसान जबरन कर्जदार बने हुए है।