बल्लभचंद पेट्रोल पम्प ग्राहको का डाल रहा कम पेट्रोलःविवाद पहुंची पुलिस -

शिवपुरी। शहर के माधव चैक चैराहे पर स्थित बल्लभचंद पेट्रोल पम्प पर बीती रात्रि कम पेट्रोल डालने का आरोप लगाते हुए एक उपभोक्ता ने पेट्रोल पम्प पर बखेड़ा खड़ा कर दिया। इस पर पेट्रोल पम्प स्टाफ पेट्रोल पम्प बंद कर भाग गया। मौके पर पुलिस पहुंची। इसके बाद मामला शांत हुआ।

लेकिन इस विवाद में जिस युवक ने कम पेट्रोल देने का आरोप लगाया था, उसने पहले बताया कि उसके कर्मचारी ने पेट्रोल पम्प पर 500 रूपए का पेट्रोल डलवाया था। बाद में कहने लगा कि उसने 600 रूपए का पेट्रोल डलवाया था।

उक्त युवक का कहना है कि इस दौरान पेट्रोल पम्प स्टाफ ने उससे सुलह की बात भी कही और उसे पूरा पेट्रोल देने के लिए राजी हो गया। लेकिन उक्त युवक इस बात पर अड़ गया कि उसके साथ पेट्रोल पम्प पर महीनों से ऐसा हो रहा था।

जिस समय विवाद चल रहा था, उस समय कुछ अन्य लोग भी अपनी शिकायत लेकर वहां पहुंच गए। जिससे मीडिया का भी जमावड़ा वहां लग गया। मौके से एसडीएम अरविंद वाजपेयी को सूचना दी गई। जिन्होंने उक्त पेट्रोल पम्प पर नाप तौल विभाग के अधिकारियों को भेजने की बात कही।

फरियादी गिर्राज यादव ने इस संवाददाता को बताया कि माधव चैक पर स्थित बल्लभचंद पेट्रोल पम्प से 600 रूपए का पेट्रोल लिया और वहां मौजूद कर्मचारी मुकेश सिंह राजपूत ने उसे पेट्रोल दिया। जिस पर गिर्राज को कम पेट्रोल देने का संदेह हुआ और उसने पेट्रोल नापने के लिए कर्मचारी से कहा। जिस पर कर्मचारी आनाकानी करने लगे।

इसके बाद उसने स्वयं ही कैमरे के सामने पेट्रोल निकाला जो साढ़े 4 लीटर था। जबकि 600 रूपए में 6 लीटर से अधिक पेट्रोल होना चाहिए था। इसे लेकर गिर्राज यादव पेट्रोल पम्प कर्मचारियों पर विफर गया और उसने वहां हंगामा शुरू कर दिया।

बखेड़ा इतना खड़ा हो गया कि वहां बड़ी संख्या में लोग एकत्रित हो गए। भीड़ को देखते हुए पेट्रोल डालने वाला कर्मचारी मौके से भाग गया और इसके बाद पेट्रोल पम्प का मैनेजर व एक कर्मचारी गिर्राज के पास आया। जिसने गिर्राज को लालच दिया कि वह उसकी कम मात्रा को पूरी कर देंगे। कोई बखेड़ा खड़ा न करें।

सूचना पाकर बड़ी संख्या में मीडियाकर्मी भी वहां पहुंच गए। जिनके समक्ष गिर्राज यादव ने पेट्रोल पम्प प्रबंधन पर आरोप लगाए। इसी दौरान दो अन्य युवक भी अपनी बाइकें लेकर वहां आ गए। जिनका कहना था कि कुछ समय पहले ही उन्होंने पेट्रोल पम्प से पेट्रोल डलवाया और उनकी बाइक 50 रूपए के पेट्रोल में महज 4 किमी ही चल सकी।

जबकि 50 रूपए के पेट्रोल में बाइक 12 से 15 किमी चलती है। अन्य लोगों को अपनी शिकायतें लेकर आते देख मैनेजर व अन्य कर्मचारियों ने पेट्रोल पम्प की शटरें डाल दीं और लाईट बंद कर पेट्रोल पम्प बंद कर दिया।

मौके से कुछ लोगों ने एसडीएम अरविंद वाजपेयी से पेट्रोल पंप संचालकों की कारगुजारियों की शिकायत की। जिस पर एसडीएम ने मौके पर पुलिस भेज दी। साथ ही नाप तौल विभाग और खाद्य विभाग को मौके जाने के निर्देश दिए।