भटक रहे हैं डेढ साल से शिवपुरी के पात्र 650 पात्र शिक्षक अभ्यार्थीः कुछ हो सकते हैं ओवर एज

शिवपुरी। मध्यप्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा पास कर चुके प्रदेश के 30 हजार और जिले के 650 से ज्यादा शिक्षक पिछले डेढ़ साल से ज्वाइनिंग के लिए भटक रहे हैं। वे ज्वॉइनिंग पाने के लिए जिलास्तर से लेकर प्रदेश स्तर तक अफसरों से गुहार लगा चुके हैं। लेकिन उन्हें हर जगह से सिर्फ तारीख पर तारीख मिल रही है।

बता दें कि प्रदेश सरकार ने विधानसभा चुनाव से पहले मध्यप्रदेश शिक्षक भर्ती निकाली थी। जून 2018 में प्रदेश के लाखों बेरोजगार युवाओं ने नौकरी की आस में आवेदन किए। साथ ही परीक्षा की तैयारी शुरु कर दी। नवंबर में चुनाव के चलते परीक्षा टल गई और जनवरी फरवरी 2019 में परीक्षा की तिथि घोषित हुई। वहीं अगस्त महीने परिणाम घोषित हो गए।

जनवरी 2020 में टीआरसी (टीचर्स रिक्रूटमेंट एंड काउंसिल) पोर्टल पर 650 चयनित अभ्यर्थियों की सूची जारी हुई। वहीं करीब 200 लोगों की प्रतीक्षा सूची भी जारी की गई।


सीएम को दिया ज्ञापन, मिला सिर्फ आश्वासन, भटक रहे प्रतिभागी
चयनित अभ्यर्थी ज्वाइनिंग पाने के लिए पिछले पांच महीने से लगातार नीचे से लेकर ऊपर तक तमाम अफसरों को ज्ञापन दे चुके हैं। यहां तक कि सीएम हाउस पर भी ज्ञापन दे चुके हैं। लेकिन वहां सिर्फ यही आश्वासन मिला कि हम जल्द नियुक्तियां करेंगे। लेकिन अब तक कुछ भी नहीं हुआ। ऐसे में अब यह अभ्यर्थी पुनः आंदोलन की तैयारी में हैं।


अप्रैल 2020 में दस्तावेज सत्यापित हो चुके हैं
अप्रैल 2020 के चयनित अभ्यर्थियों के ऑनलाइन दस्तावेजों के सत्यापन की प्रक्रिया भी संपन्न हो गई। लेकिन आज तक इनके ज्वॉइनिंग आदि की कार्रवाई ठंडे बस्ते में पड़ी हुई है। पात्रता परीक्षा पास कर चुके शिक्षक नौकरी पाने के लिए दर-ब-दर भटक रहे हैं।

ज्वाइनिंग के लिए भटक रहे प्रतिभागी
कोरोना का बहाना लेकर रोका सत्यापनरू एक अप्रैल से 21 अप्रैल तक चयनित अभ्यर्थियों के दस्तावेजों का ऑनलाइन सत्यापन किए जाने के बाद जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर भौतिक सत्यापन भी किया जाना था। इसके लिए एक जुलाई से कार्यक्रम घोषित हुआ। लेकिन अचानक तीन जुलाई के बाद यह सत्यापन रोक दिया गया।

बहाना बनाया गया कि कोरोना काल के चलते परिवहन व्यवस्था बंद है। इस कारण सभी अभ्यर्थी सत्यापन के लिए जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय तक आने में असमर्थ है। जबकि हकीकत यह थी कि मात्र तीन दिनों में ही चयनित शत-प्रतिशत अभ्यर्थियों ने अपने दस्तावेजों का सत्यापन करा लिया था।

हम ओवरेज हुए तो नौकरी से भी जाएंगे
कुछ दिन में सरकार ने भर्ती प्रक्रिया शुरू नहीं की तो फिर हम पात्र होने के बाद भी ओवर एज होने के चलते नौकरी से हाथ धो बैठेंगे। ऐसे में सरकार को चाहिए कि इस साल नौकरी देने की प्रक्रिया शुरू कर दे। इससे हम ओवरेज होने से बच जाएंगे। समय पर नौकरी मिल जाने से हमारा भविष्य संवर जाएगा।
सुंदर लाल वर्मा,परीक्षा उत्तीर्ण युवा