शादियों पर पहरा: 11 दिसंबर के बाद अप्रैल में होंगी शादियां, खरमास के चलते लगेगा नहीं हो पाएगी शादी - SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। नवरात्रि में शहर में सगाई समारोह की धूम है। इन सगाई समारोह के बाद अब शहर में शादियां होनी है। पिछली साल जो शादियां होनी थी वह लॉक डाउन के चलते नहीं हो पाई। परंतु इस साल भी उन शादियों पर ग्रहण लग सकता है। उसका कारण है खर मास का होना।

अगर हम बात इस साल की करें तो 2020 में अब 7 शुभ मुहूर्त है। 11 दिसंबर के अतिम शुभ मुहूर्त होने के बाद फिर रोक लग जाएगी। इसके बाद यह रोक 22 अप्रैल 2021 को हटेगी। ऐसा ग्रहों के अस्त होने व खरमास होने के कारण होगा। तब तक लोगों को इंतजार करना होगा ।

पं.मनोज तिवारी के बताते है कि शादी, सगाई और अन्य मांगलिक कार्यों के लिए शुभ महीना, तिथि , वार , नक्षत्र और शुभ दिन का विचार किया जाता है। वर , वधुव मांगलिक कार्य कर रहे व्यक्ति की राशि के हिसाब से शुभ मुहूर्त निकलता है ।

इस साल के ढाई माह में विवाह व शुभ कार्यों के लिए सिर्फ 9 दिन ही शुभ मुहूर्त रहेंगे। 25 नवंबर को देव उठानी ग्यारस के साथ शादी व शुभ कार्यों की शुरूआत होगी। शादियों के लिए 11 दिसंबर को इस साल का लास्ट शुभ मुहूर्त होगा।

पंडित तिवारी के अनुसार 15 दिसंबर को सूर्य के धनु राशि में आ जाने से खर मास शुरू हो जाएगा, जो 14 जनवरी 2021 तक रहेगा। खर मास में विवाह आदि शुभ मुहूर्त नहीं होते है। इसके बाद 19 जनवरी को गुरु तारा अस्त हो जाएगा और 16 फरवरी तक अस्त ही रहेगा।

गुरुग्रह अस्त होने पर भी शुभ विवाह नहीं होता है। 16 फरवरी से 17 अप्रैल तक शुक्र ग्रह अस्त रहेगा । इस कारण 11 दिसंबर के बाद अगले 4 महीने तक विवाह के लिए शुभ मुहूर्त नहीं रहेंगे। 22 अप्रैल 2021 तो साल का पहला शुभ मुहूर्त होगा। तभी शादियाँ व शुभकार्यों का शुभारंभ होगा ।

नवंबर में 2 और दिसंबर में 5 शादी के मुहूर्त 25 नवंबर को देव प्रबोधिनी एकादशी के दिन विवाह का मुहूर्त है । इसके बाद 30 नवंबर को मुहूर्त रहेगा। दिसंबर माह में 1,7,8,9 और 11 तारीख को विवाह के मुहूर्त रहेंगे । मान्यता के अनुसार देव शयनी ग्यारस के बाद कोई भी शुभ कार्य नहीं होता है और देव उठनी ग्यारस के बाद शुभ कार्य शुरू हो जाते हैं ।