प्रागीलाल का जलाया पुतला, कमलनाथ मुर्दाबाद के लगाए नारे, उम्मीदवारी से नाखुश दिखे कांग्रेसी - SHIVPURI NEWS

शिवपुरी।
बहुजन समाजपार्टी से कांग्रेस में आए प्रागीलाल जाटव को करैरा विधानसभा क्षेत्र का कांग्रेस प्रत्याशी बनाए जाने के विरोध में कतिपय कांग्रेसियों ने उनके पुतले का दहन किया और कमलनाथ तथा दिग्विजय सिंह और जिला कांग्रेस अध्यक्ष श्रीप्रकाश शर्मा मुर्दाबाद के नारे लगाए।

सूत्रों के अनुसार पूर्व विधायक शंकुतला खटीक के समर्थकों ने यह विरोध प्रदर्शन किया। हालांकि पुतला दहन में श्रीमति खटीक शामिल नहीं हुईं। लेकिन सूत्रों के अनुसार उनके पुत्र इस विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। प्रागीलाल को टिकट मिलने से पूर्व अपने आप को निष्ठावान कांग्रेसी बताने वाले दावेदारों ने पूर्व विधायक शंकुतला खटीक के नेतृत्व में मुखर विरोध करते हुए कहा था कि यदि प्रागीलाल को टिकट दिया गया तो निष्ठावान कांगे्रसी उनका प्रचार नहीं करेंगे।

कांग्रेस उम्मीदवार प्रागीलाल ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि उनकी उम्मीदवारी का विरोध कांग्रेसी नहीं कर रहे बल्कि सिंधिया समर्थक कर रहे हैं। प्रागीलाल ने शंकुतला खटीक को सिंधिया समर्थक बताया। प्रागीलाल ने कहा कि विरोध करने वाले सिंधिया समर्थक के स्थान पर कांग्रेसी होते तो क्या कमलनाथ और दिग्विजय सिंह तथा श्रीप्रकाश शर्मा मुर्दाबाद के नारे लगाते?

कांग्रेस उम्मीदवार प्रागीलाल जाटव कुछ समय पूर्व ही बसपा से कांग्रेस में आए हैं। प्रागीलाल करैरा से पिछले तीन चुनाव बसपा उम्मीदवार के रूप में लड़ रहे हैं। वह किसी भी चुनाव मेें जीत तो नहीं पाए। लेकिन उन्होंने मजबूत चुनौती अवश्य पेश की। 2008 के विधानसभा चुनाव में बसपा उम्मीदवार प्रागीलाल जाटव ने कांग्रेस उम्मीदवार बाबू रामनरेश को तीसरे स्थान पर धकेल दिया था।

2018 के विधानसभा चुनाव में प्रागीलाल जाटव ने 40 हजार से अधिक मत प्राप्त किए थे। इसी कारण कांग्रेस की उन पर नजर थी और जब प्रागीलाल जाटव ने कांग्रेस प्रवेश की इच्छा जताई तो प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उन्हें न केवल कांग्रेस में शामिल किया। बल्कि उन्हें टिकट देने का भरोसा भी दिलाया। कांग्रेस ने हाल ही में 27 सीटों में से जिन 15 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा की है उनमें करैरा सीट से प्रागीलाल जाटव की उम्मीदवारी भी है।

इनका कहना है-
प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ और वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह मुर्दाबाद के नारे लगाने वाले कांग्रेसी नहीं हो सकते। हमें मालूम है कि वह विरोध प्रदर्शन किसने कराया था। एक पूर्व विधायक के संरक्षण मेें उनके पुत्रों ने इसका ताना बाना रचा था। यह कहने का उन्हें अधिकार नहीं है कि कांग्रेस ने बसपा से आए प्रागीलाल को टिकट क्यों दिया। वे अपने गिरेवां में खुद झांके। कांग्रेस ने भी उन्हें टिकट दिया था। जबकि वे लोक जनशक्ति पार्टी से कांग्रेस में आई थीं।
श्रीप्रकाश शर्मा, जिला कांग्रेस अध्यक्ष शिवपुरी