पोहरी ग्राम पंचायत का परत-दर-परत मुक्तिधाम घोटाला / Pohri News

पोहरी। खबर जिले के पोहरी क्षेत्र के पोहरी ग्राम पंचायत से आ रही है। जहां पोहरी ग्राम पंचायत में जमकर भ्रष्टाचार हुआ है। इस भ्रष्टाचार की परत शिवपुरी समाचार एक के बाद एक खोल रहा है। सबसे पहला मामला यहा मुक्तिधाम का है। जहां ग्राम पंचायक के कर्ता धर्ताओं ने मुक्तिधाम ने नाम पर बडा घोटाला करते हुए यहां लाखों रूपए की राशि हडप ली है।

जानकारी के अनुसार पहला भ्रष्टाचार श्मशान (कब्रिस्तान) के बाउंड्री बाल निर्माण का सामने आया है। विधायक निधि द्वारा तकरीबन 250000 रुपये से शमशान ( कब्रिस्तान ) की बाउंड्री बाल निर्माण के लिए दिनांक 02/10/2019 में स्वीकृत हुए थे और कब्रिस्तान की बाउंड्री बाल निर्माण के बिल भी निकाल लिए है।

जब इस संबंध में पोहरी ग्राम पंचायत के कब्रिस्तान एवम शमशान घाट की धरातल की वास्तविक स्थिति का पता किया तो सामने आया कि यहां धरातल पर कुछ भी नहीं मिला। अब सबाल खडा हो रहा है कि आखिर निकाले गए ढाई लाख रूपए कहा गए।

शमशान घाट जो कि मंडी रोड़ बीआरसी एवम बीएसनल टावर के पास स्थित है वहाँ पहले से ही बाउंड्री बाल निर्माण हो चुका है वही इसके समीप ही ग्राम पंचायत के नए भवन पानी की टंकी के पास बने श्मशान घाट पर सिर्फ पत्थर की बाउंड्री बाल दिखाई थी जिसके कुछ पत्थर गायब मिले यहाँ पर बाउंड्री बाल अपनी दिशा बताती नजर आ रही है।

तीसरा स्थान पर शमशान घाट नयागांव में पर देखा गया तो वहाँ पर भी पत्थर से बनी बाउन्ड्री बाल जो काफी पुरानी नजर आ रही थी वो दिखाई दी। धरातल पर जब ओर खोजबीन की गई तो मुस्लिम समाज के बने कब्रिस्तान जो कि पोहरी किले के अंदर की बस्ती की तरफ है वहाँ पर भी किसी तरह की बाउंड्री बाल नजर नही आई ।

अब सवाल यह है कि ढाई लाख रूपये की लागत से पोहरी ग्राम पंचायत में बने शमशान ( कब्रिस्तान) की बाउंड्री बाल को सरपंच सचिव ने किस दिशा में निर्माण कर दिया गया। जब इस संबंध में और गहन अध्यन किया तो सामने आया कि इस कब्रिस्तान (शमशान ) के बिल वाउचर से रकम भी बाहर आ चुकी है जिसमे सैय्यद बिल्डिंग मटेरियल एवं मजदूरों के बिल भुगतान भी हो गए है। जिसमे बिल्डिंग मटेरियल के नाम पर सीमेंट,रेत ,गिट्टी, सरिया इत्यादि एवम निर्माण कार्य मे प्रयुक्त मजदूरों के भी बिल भुगतान हो चुके है।

इनका कहना है
अब कहा पैसे निकल गए इसका मुझे पता नहीं है,रही बात धरातल से फोटो अपलोड की तो वह सचिव करता है। आप बता रहे हो तो में इस मामले को दिखबा लेता हूं। कि आखिर यह पैसा कैसे और कहा निकाला गया है।
अजय बंसल,सब इंजीनियर,जनपद पंचायत पोहरी