कोरोना की बीमारी से बड़ी है कोरोना पॉजीटिव होने की दहशत: कोरोना से जीतकर लौटे समीर से विशेष बातचीत | Shivpuri News

शिवपुरी। जिले का दूसरा कोरोना पॉजीटिव मरीज समीर खान की तीसरी रिर्पोट जिले के लिए खुश खबरी लेकर आई है। समीर खान कोरोना निगेटिव होते ही जिले से कोरोना बोल्ड हो गया हैं। समीर खान ने अपनी खुशी शिवपुरी समाचार से शेयर करते हुए कुछ संदेश भी दिया हैं ओर कहां कि मैं आप सबकी दुआओ से यह जंग जीता हूं।

समीर ने कहा कि जब आप लोगो ने मुझे फोन पर दी हैं। मुझे डॉक्टरो ने अभी नही बताया था मेरे आपके ही फोन आए कि मेरी तीसरी रिर्पोट निगेटिव आई हैं यह सुनकर मेरी आंखो खुशी के आंशू निकल रहे हैं। मुझे पता था कि पूरा जिला मेेरे लिए दुआ कर रहा था। आपके सहयोग के बिना यह जंग लडना मेंरे लिए इम्पोसेबल थी।

24 मार्च को में शिवपुरी आईसोलेशन वार्ड में शिवपुरी आया था आज मेरे को 17 दिन हो गए हैं। पिछले 15 दिनो से में इस वार्ड में अकेला ही हूं। जब मेरी कोरोना की रिर्पोट पॉजीटिव आई थी, कोरोना के बीमारी से लक्ष्ण से घातक बार मेरे दिमाग पर हुआ। मेरा पूरा आत्मविश्वास हिल गया, लेकिन इस वार्ड में ड्यूटी कर रहे स्टाफ ने मेरा हौसला बढाया ओर दीपक शर्मा का उदाहरण दिया कि वह भी ठीक हो गया आप भी स्वस्थ जल्दी होगें।

दवाईयो के साथ हिम्मत ने काम किया और आज यह रिजल्ट आपके सामने हैं। मेरा इलाज कर रहे डॉक्टरो को मेरा धन्यवाद हैं। कोरोना का मरीज बीमारी से अधिक दहशत से मर जाता हैं। मेरा डॉक्टरो से इतना ही कहना हैं कि इस बीमारी वाले मरीज को प्रोत्साहित अधिक करे।  

मेरी जब दूसरी रिर्पोट पॉजीटिव आई थी मैने अपने घर वालो को उस रिर्पोट की जानकारी नही दी थी। आज मेरे पूरे घर वाले खुश हैं सभी आखो में खुशी के आंशू हैं। मैने अपनी बीमारी से पहले इस बीमारी की दहशत को मारा। पॉजीटिव सोच रखी। बाकी सब आपकी दुआओ ने काम किया।

मैने जो 17 दिन इस वार्ड में काटे हैं वैसे किसी को नही काटने पडे। मोबाइल ही मेरा साथी था, मेरे दोस्त रिश्तेदारो से बात करते ही मेरा दिन कटता था। बाकी समय में मोबाईल पर न्यूज देखता रहता था।

मेरा पब्लिक से कहना हैं कि अभी हमे सभी को मिलकर इस कोरोना से लडना हैं। कौन हिन्दू कौन मुस्लमान सब भूज जाओ अभी समाज का सबसे बडा दुश्मन कोरोना हैं।कोई बहस नही बस एक ही टारगेट कोरोना को हराना हैं। इसलिए सब लोग अपने घरो में रहे,पहले अपने परिवार को फिर अपने मोहल्ले और जिले को सुरक्षित रखे। प्रशासन की बात माने तो हम सब मिलकर इस महामारी को हरा सकते हैं।

अंत में शिवपुरी की मीडिया को धन्यवाद देना चाहता हूं कि शिवपुरी की मीडिया में से प्रतिदिन किसी न किसी का फोन मेरे पास आता रहता था ओर मेरा हालचाल के बारे में जानकारी लेता रहता था। दीपक भाई भी मेरे साथ 2 दिन इस वार्ड में रहे उनका भी व्यवहार बहुत शानदार था वह जाते समय मेरे को बहुत हिम्मत दे गए थे।