शिवपुरी नगर पालिका डिस्कनेक्ट, कामकाज ठप | Shivpuri News

शिवपुरी। ऑफिस-ऑफिस नाटक की तर्ज पर इन दिनों शिवपुरी नगर पालिका और जिला प्रशासन के बीच खेल चल रहा हैं। जिससे  शहर का आम नागरिक काफी परेशान बना हुआ हैं। इतना ही नहीं शिवपुरी नगर पालिका के हालात इन दिनों इतने खराब हैं कि नगर पालिका कार्यालय की विद्युत विभाग ने बिल न जमा होने के कारण कनेक्शन तक काट दिया।

वहीं टेलीकॉम कंपनी के कर्मचारियों ने टेलीफोन व नेट के बिल जमा न होने के कारण कनेक्शन विच्छेद कर दिया। जिससे इन दिनों नगर पालिका के कर्मचारी अंधेरे में बैठे रहे और नेट कनेक्शन कटने से सारी ऑन लाईन फिडिंग के काम काज बिल्कुल ठप्प हो गए और आम नागरिक इन एकल खिलड़कियों पर अपने कार्य कराने के लिए भटकते ही देखे गए।

इन सबकी जानकारी स्थानीय प्रशासक को होने के बाद भी इस ओर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया जा रहा हैं जिससे धीरे-धीरे करके नगर पालिका के हालत बद से बदतर होते जा रहे हैं। ऐसी स्थिति में नगरपालिका आफिस की बिजली कनेक्शन कटना तथा बिजली विभाग द्वारा बिजली कनेक्शन जोडऩे के लिए 346337 रूपये का नोटिस भेजना तथा नेट कनेक्शन चालू कराने के लिए 40 हजार रूपए जमा कराना अनिवार्य हैं। तभी कहीं जाकर ऑफिस की स्थिति ठीक हो सकेगी और कामकाज चालू हो सकेगा।

फिजीकल संपबैल का बिल एक माह का 5 लाख

विद्युत विभाग के कर्मचारी की मनमानी ही कहें कि बगैर सोचे बिचारे नपा को विद्युत बिल थमाए जा रहे हैं जिससे संस्था को राजस्व की हानि तो ही रही हैं और शहर विकास में भी बाधा उत्पन्न हो रही हैं। सूत्रों की मानें तो पिछले एक माह में फिजीकल संपबैल पर 5 लाख रूपए का बिजली बिल मीटर के रीडर के हिसाब थमाया गया था।

जब नगर पालिका के एक अधिकारी ने बिद्युत विभाग के कर्ताधर्ताओं से चर्चा की तो उनका कहना था कि गलत आ गया होगा और तत्काल मीटर को बदलने की बात कहीं लेकिन बिल यथा स्थिति ही बना रहा  इससे साफ जाहिर होता हैं कि कहीं न कहीं विद्युत विभाग के अधिकारी अपनी मनमर्जी से नगर पालिका को बिल थमाने में लगे हुए। जिससे अतिरिक्त भार नपा पर पड़ रहा हैं।

40-45 लाख रूपए प्रत्येक माह थमाया जाता है बिजली का बिल

शिवपुरी नगर पालिका के इन दिनों लगभग 650 नलकूपों सहित शहर की प्रकाश व्यवस्था एवं नगर पालिका कार्यालय का लगभग विद्युत का बिल 40-45 लाख रूपए का बिल भेजा जाता हैं। यदि गौर करने वाली बात तो यह हैं कि शहर में प्रकाश व्यवस्था के नाम पर मुख्य मार्गों को छोड़ दिया जाए तो वार्डों की अधिकतम गलियों में अंधेरा ही पसरा रहता हैं।

वहीं शहर में लगभग 450 नलकूप चालू हैं लेकिन 200 नलकूप आज भी बंद पड़े हुए हैं। इतना बिल भेजना कहां तक सही हैं यह सवालियां निशाना खड़ा करता हैं! ऐसा हैं तो प्रत्येक नलकूप पर अपना एक मीटर लगाना चाहिए और उस की रीडिंग के आधार बिल दिया जाए तो कहीं न कहीं नपा पर भी अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ेगा।

समग्र आईडी व ऑन लाईन फिडिंग न होने से उपभोक्ता परेशान

नगर पालिका का कार्यालय में इन दिनों पैसा न होने के कारण शिवपुरी नगर पालिका का नेट कनेक्शन काट दिया गया हैं। इस कारण नपा के कम्प्यूटर का ऑन लाईन का फिडिंग काम बंद हैं। उपभोक्ताओं न तो समग्र आईडी बनवा पा रहे हैं। और न ही ऑन लाईन डाटा एन्ट्री हो पा रही हैं ऐसी स्थिति में उपभोक्ता काफी परेशान बना हुआ हैं। उपभोक्ताओं का कहना हैं कि हम नगर पालिका आते हैं तो नेट न चलने की स्थिति वापस चले जा रहे हैं।