निर्दयता से भरी तस्वीर: क्या कहेंगें यह इंसान है या जानवर,डॉक्टर है या हैवान | Shivpuri News

शिवपुरी। खबर शहर के जिला चिकित्सालय से आ रही है। जहां आज अस्पताल प्रबंधन की फिर से बडी लापरवाही सामने आई है। जहां आज अस्पलात में नसबंदी कराने आई महिलाओं को नसबंदी के बाद प्रबंधन ने जमींन पर लेटा दिया। इसमें सबसे अहम बात यह है कि यह बारदात उस समय अंजाम दी गई जब शहर में कडाके की ठंड पड रही है। इसके साथ ही अगर मरीजों को जमीन पर लिटाया जाता है तो उसने इन्फेक्सन का भी डर है। अब इसें क्या कहेंगें यह इंसान है या जानवर,डॉक्टर है या हैवान।

जानकारी के अनुसार बीेते कुछ दिनों से जिला चिकित्सालय में लगातार नसबंदी शिविर आयोजित किए जा रहे है। जिसके चलते आज भी जिला चिकित्सालय में लगभग 40 महिलाओं की नसबंदी की गई। परंतु यहा सबसे बडी बात उस समय सामने आई जब अस्पताल प्रबंधन ने अस्पताल में नसबंदी हुई सभी महिलाओं को एक साथ ही जमींन पर लिटा दिया। इससे बडी लापरवाही की शायद ही कोई बात हो। परंतु अपने टार्गेट पूरा करने के चक्कर में जिला चिकित्सालय में पदस्थ अधिकारी कर्मचारी किसी भी हद तक गुजरने से नहीं चूकते। यह घटना भी उस समय हुई है। जब जिले में हाडकपा देने बाली ठंड पड रही है।

ऐसा नहीं है कि यह जिला चिकित्सालय का पहला मामला हो। इससे पहले भी एक मरीज ने बेड पर ही दम तोड दिया। उसके बाद इस मरीज की लाश बेड पर ही पडी रही। परंतु डॉक्टर सहित नर्सो को यह तक पता नहीं चल सका कि उक्त व्यक्ति ने दम तोड दिया है। इस लाश पर चीटिंया रैगती रही। इस हैबानियत भरी तस्वीर को शिवपुरी की मीडिया ने प्रमुखता से प्रकाशित किया। जिसके चलते मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस मामले में तत्काल दोषियों पर कार्यवाही की बात कही। उसके बाद कलेक्टर ने सिविल सर्जन सहित ड्यूटी नर्शो को तत्काल प्रभाव ने सस्पेंड कर दिया था। उसके बाबजूद भी उक्त स्टाफ सुधरने का नाम नहीं ले रहा।