अमानक चना खरीद काण्ड:नीलामी से शासन को लगा 40 लाख का फटका, FIR की तैयारी

शिवपुरी। समर्थन मूल्य पर चली खरीदी में सोसायटियों द्वारा भारी मात्रा में अमानक चना व अन्य उपज खरीद ली गई। इन्हीं में से एक कोलारस के श्रीजी गोदाम में खरीदे गए चने को नीलाम करना पड़ा। सहकारी संस्था बेंहटा द्वारा खरीदे 3 हजार 386 क्विंटल अमानक चने सहित 424 क्विंटल मसूर और 77 क्विंटल सरसों की गुरुवार को नीलामी के लिए व्यापारियों को बुलाया गया था। व्यापारियो ने इस माल को बोली लगाई। इस बोली में शासन को 40 लाख का फटका लगा हैं।

यह खरीद और बेचने का अंतर

समर्थन मूल्य पर किसानों से चना 4620 रुपए प्रति क्विंटल खरीदा गया है। जबकि व्यापारियों ने 3525 रुपए बोली लगाई है। समर्थन मूल्य से 1095 रुपए का अंतर है। करीब 37 लाख 7 हजार 670 रुपए का सीधा नुकसान है। इसी तरह सरसों का समर्थन मूल्य रेट 4200 रुपए थे और व्यापारियों नें 3755 रुपए बाेली लगाई है।

वहीं मसूर का समर्थन मूल्य 4475 रुपए था और व्यापारियों ने 3925 रुपए बोली लगाई है। कुल मिलाकर समर्थन मूल्य पर खरीदी होने के बाद उक्त माल को व्यापारियों को प्रशासन बेचता है तो करीब 40 लाख रुपए का अंतर आ रहा है।

इधर... दूसरी सोसायटियों पर माल की कमी, FIR की तैयारी

जिले में साल 2018 में उड़द और चना आदि समर्थन मूल्य पर खरीदा गया था। सोसायटियों ने क्विंटलों माल गायब कर दिया है जिससे काफी अधिक शॉर्टेज आ रही है। बेहटा सोसायटी प्रबंधक लक्ष्मण रावत के खिलाफ पहले ही मुकदमा दर्ज हो चुका है।

वहीं लुकवासा सोसायटी द्वारा राई में खरीदी की गई थी। खरीदी के बाद यहां 30 लाख रुपए के माल की शॉर्टेज आई है। इसी तरह चार-पांच अन्य सोसायटियां हैं जहां शॉर्टेज के चलते संबंधित प्रबंधकों के खिलाफ एफआईआर की तैयारी चल रही है।

इन अफसरों की निगरानी में हुई बोली प्रक्रिया

अपर कलेक्टर आरएस बालोदिया, डीएमओ नागरिक आपूर्ति निगम अरुण जैन, जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी नारायण शर्मा, महाप्रबंधक जिला सहकारी केंद्रीय बैंक वायकेसिंह, उप संचालक कृषि यूसएस तोमर, उपायुक्त सहकारी संस्थाएं सीएल मौर्य आदि अधिकारियों की मौजूदगी में बोली प्रक्रिया लगाई गई।

390 किसानों का 3 करोड़ से ज्यादा भुगतान अटका

जिले में करीब 390 किसानों का 3 करोड़ रुपए से अधिक का भुगतान अटका हुआ है। जिसमें पिछली साल का 157 किसानों का 1 करोड़ रुपए का भुगतान अटका है। जबकि इस साल 233 किसानों का 2.06 करोड़ रुपए का भुगतान होना अभी बाकी है।

उपज बेचकर किसानों को भुगतान करेंगे

बेहटा साेसायटी पर खरीदे अमानक चने की बोली लगवाई गई है। बैठक बुलाकर निर्णय लेंगे। उपज बेचकर किसानों को भुगतान किया जाएगा। अन्य सोसायटियों में भी अमानक चना खरीदने और शॉर्टेज है। इसलिए उनके खिलाफ कार्रवाई चल रही है। अनुग्रहा पी., कलेक्टर, शिवपुरी