मंत्रिमंडल का विस्तार: केपी सिंह को बनाया जा सकते हैं मंत्री, लोकसभा चुनाव के प्रर्दशन से है उम्मीद | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। शिवपुरी जिले के पिछोर विधानसभा क्षेत्र से लगातार पांच बार से विधायक निर्वाचित हो रहे केपी सिंह को कमलनाथ सरकार में स्थान नहीं मिला था। पार्टी की गुटबाजी के कारण उन्हें मंत्रिमण्डल से बाहर रखा गया, लेकिन लोकसभा चुनाव में उनके विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के अच्छे प्रदर्शन के कारण उन्हें बजट सत्र से पूर्व मंत्रिमण्डल के हो रहे संभावित विस्तार में स्थान मिल सकता है। 

उनके अलावा जिन नए चेहरों को मंत्री बनाया जा सकता है उनके नाम हैं एदल सिंह कंषाना, विसाहूलाल और निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह ठाकुर उर्फ शेरा भईया जबकि कुछ मंत्रियों की मंत्रिमण्डल से छुट्टी हो सकती है। जिनमें महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रियव्रत सिंह और हर्ष यादव आदि के नाम लिए जा रहे हैं।

लोकसभा चुनाव के बाद एक बार फिर से कमलनाथ मंत्रिमण्डल विस्तार की अटकलें तेज हो चुकी हैं।  लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद समर्थन दे रहे निर्दलीय सपा और बसपा विधायकों को साधने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ कैबिनेट का विस्तार कर सकते हैं।  प्रदेश मंत्रिमण्डल में वर्तमान में 28 मंत्री हैं और नियमानुसार 6 नए चेहरों को जगह मिल सकती है।

यह भी चर्चा है कि कमलनाथ अपने मंत्रिमण्डल का नए सिरे से गठन कर सकते हैं। इसके लिए लोकसभा चुनाव के परिणामों में मंत्रियों के क्षेत्र में पार्टी के प्रदर्शन को आधार बनाने पर भी विचार किया जा रहा है। कमलनाथ सरकार को बसपा और सपा के तीन विधायकों ने समर्थन दिया है। चार निर्दलीय विधायक भी समर्थन दे रहे हैं इनमें से सिर्फ निर्दलीय विधायक प्रदीप जयसवाल को मंत्री बनाया गया हे।

निर्दलीय विधायकों में अब सुरेंद्र सिंह शैरा भईया को भी मंत्री बनाया जा सकता है। निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह ने पत्रकारों को चर्चा के दौरान बताया कि उन्हें मंत्री बनाने का आश्वासन मिला है। देखते हंंै कि उन्हें कब मंत्री बनाया जाता है।