शराब कारोबारी और आबकारी अधिकारी की साइलेंट पार्टनरशिप, लगा शासन को 5 करोड़ का चूना - Shivpuri News

ललित मुद्गल, शिवपुरी
। शिवपुरी में शराब कारोबारियों और जिलाधिकारी की साइलेंट पार्टनरशिप के कारण शासन को 5 करोड़ का चूना लगा है। इसके अतिरिक्त जिले में एक ही ब्रांड के शराब की बोतलो में रेटो में बैरिएशन है। वही जिले में शराब की दुकानें नियमों को तोड़ते हुए एनएचएआई पर संचालित की जा रही हैं।

जिले में संचालित हो रहे है अवैध अहाते

शिवपुरी जिले में 140 आहते संचालित हो रहे है जिसमें 21 आहते अवैध संचालित किए जा रहे है। बताया जा रहा है शिवपुरी के पोहरी बस स्टैंड,फिजीकल और पीएस के पास संचालित आहते पुरी तरह अवैध संचालित किए जा रहे है,इन आहते पर आबकारी विभाग की नजर नही जाती है।इस तरह पूरे जिले में 21 आहते संचालित किए जा रहे है। आहते के विधिवत परमिशन लेने के लिए संबंधित दुकान की कीमत का 2 प्रतिशत शासन को जमा करना पडता है।

मान लो कोई दुकान 10 करोड़ की कीमत है अगर इसके पास आहता खोलना है तो 10 करोड़ का 20 लाख रूपया जमा करना होगा। इसी प्रकार इन अगर 21 आहतो का 2 प्रतिशत निकाला जाए तो यह राशि 5 करोड़ के पास पहुंचती है। बताया जा रहा है कि इन चल रहे आहतो की विधिवत शिकायत भी की गई थी लेकिन जिला आबकारी अधिकारी बीरेन्द्र धाकड ने कोई कार्रवाई नहीं की गई,सवाल उठता है कि इतने बडे आहते जिला आबकारी अधिकारी को नही दिख रहे है। कोई ना कोई अवैध रिश्ता इन शराब कारोबारी और आबकारी अधिकारी के बीच अवश्य है।

वही शासन ने हाइवे पर शराब की दुकान खोलने के नियम बनाए थे एनएचएआई की सडक से शराब की दुकान 220 की दूरी पर हो,लेकिन जिले में ऐसी कई दुकान है जो एनएचएआई की सड़क की छाती पर खोल रखी है। इसका उदाहरण आता है फोरलेन सुरवाया थाने के सामने एक शराब की दुकान सड़क से मात्र 50 मीटर की दूरी पर संचालित है यहां भी आबकारी विभाग मौन बैठा है।